नई दिल्ली, नीरज प्रसाद। वर्ल्ड कप की अबतक की रैकिंग में भारतीय टीम के नंबर वन पर पहुंचने की भविष्यवाणी कर चुके खेल विशेषज्ञ नीरज प्रसाद ने अब भारत और न्यूजीलैंड के बीच मंगलवार 9 जुलाई को होने वाले सेमीफाइनल को लेकर विश्लेषण दिया है, आइए पढ़ते हैं उनकी नजर में वर्ल्ड कप 2019 के पहले सेमीफाइनल में कौन सी टीम कितनी मजबूत है और किस टीम का पलड़ा भारी नजर आ रहा है... 

''वाह, एक असंभव घटना। मुझे यह बताते हुए गर्व महसूस हो रहा है कि मैंने अपने अंतिम लेख में भविष्यवाणी की थी कि दक्षिण अफ्रीका ऑस्ट्रेलिया को हरा देगा और श्रीलंका को हराकर भारत नंबर वन टीम बनकर सामने आएगी। मैनें जो संभावना जताई थी, उसे भारतीय टीम के प्रतिभाशाली धुरंधरों ने पूरा करके दिखाया, सच में ये अवलोकन चौंका देने वाला रहा।" 

वनडे में सबसे तेज सौ विकेट पूरे करने वाले मोहम्मद शमी और बुमराह हैं, यह जोड़ी भारतीय टीम की आक्रामक अगुवाई कर रही है। पांडया अपनी गति बढ़ाकर मांस में कांटे की तरह उभरे हैं तो भुवनेश्वर में गेंद को अचानक बदल देने की अदम्य क्षमता एक खतरे की तरह है। पहले पॉवर प्ले में बुमराह ने 17 विकेट और शमी ने चार मैचों में 14 विकेट लेकर दबाव कायम कर लिया है। इनके सामने न्यूजीलैंड कहीं पर भी टिकती नजर नहीं आ रही। शिखर के चोटिल होने के बाद भारत के पास केवल तीन बल्लेबाज थे। कहते हैं राख से ही चैंपियन निकलते हैं, भारत के बल्लेबाजों ने बेहतर प्रदर्शन करके ये साबित कर दिखाया है। 

रोहित ने पांच शतकों के साथ 647 रन बनाए, वहीं कोहली ने बिना किसी शतक के 442 रन बनाए हैं और राहुल ने 360 रन बनाए हैं। इन तीन बल्लेबाजों ने अकेले ही भारतीय टीम के स्कोर में साठ फीसद से अधिक का योगदान दिया है। जब-जब ऐसा हुआ तब पांड्या, पंत, धोनी और केदार के छोटे योगदान की बदौलत भारत एक शानदार टीम बन गई है। यही कारण है कि भारत अब कोहली के शतक के बिना या फिर मध्य क्रम के उपयोगी योगदान से जीत रहा है। यह कुछ ऐसा है, जो किसी पंडित ने कभी सोचा भी नहीं होगा। 

अब अगर न्यूजीलैंड की बात करें तो उनकी टीम अभी संघर्ष कर रही है, वो पिछले तीन मैच बुरी तरह हार चुकी है। उनका सबसे अच्छा और एकमात्र प्रदर्शन विलियमसन का है, वह भी 481 रनों के साथ। किस तरह उनके ओपनिंग बल्लेबाज गुप्टिल, मुनरो और हेनरी फ्लॉप साबित हुए हैं, यह किसी से छिपा नहीं है। रॉस टेलर, जेम्स नीशाम, ग्रैंडहोम और लाथम ने एक-एक अच्छी पारी खेली लेकिन ये सभी न्यूजीलैंड को जीतने वाली टीम नहीं बना पाए हैं। 

न्यूजीलैंड की गेंदबाजी की बाते करें तो बोल्ट और लॉकी फर्गुसन ने अबतक क्रमश: 14 और 17 विकेट लिए हैं। ऐसे में पहला पावर प्ले खतरा साबित हो सकता है लेकिन बाद में सेंटनर, ग्रैंडहोम और नीशाम ऐसे वाहक हैं जो केवल कुछ हालातों में ही प्रभावी हो सकते हैं। यदि न्यूजीलैंड मेट हेनरी को लेकर आती है तो उन्हें अपनी बल्लेबाजी क्रम को कम करने की जरूरत पड़ सकती है। न्यूजीलैंड के लिए एक सांत्वना यह है कि उन्होंने वार्म अप मैच जीता था और विश्व कप मैच से हाथ धोना पड़ा था। 

मैनचेस्टर का ग्राउंड 

यहां की पिच बल्लेबाजी के लिए बेहतर मानी जाती है और गेंदबाजों को अपनी पीठ झुकानी पड़ती है। भारतीय टीम मैनचेस्टर में दो मैच जीत चुकी है, इसमें पहला पाकिस्तान और दूसरा मैच वेस्टइंडीज के खिलाफ खेला था। यहां पर न्यूजीलैंड भी वेस्टइंडीज के खिलाफ सिर्फ पांच रनों से जीत दर्ज कर चुकी है। 

भविष्यवाणी 

यहां जो टीम टॉस जीते उसे पहले बल्लेबाजी करनी चाहिये क्योंकि मैनचेस्टर में पहले बल्लेबाजी करने वाली टीम ने ही सभी मैच जीते हैं। यदि भारत जीतता है, तो वो तीन सौ से ज्यादा या फिर 340 रन का स्कोर खड़ा करने जा रही है। मेरे ख्याल से न्यूजीलैंड की टीम ज्यादा से ज्यादा 275 रन तक ही पहुंच पाएगी। 

अगर न्यूजीलैंड पहले बल्लेबाजी करती है तो 275 के आसपास स्कोर कर पाएंगे, जिसे भारतीय टीम आसानी से चेज कर लेगी। इसलिए भारत 5-2 के अंतर के साथ फाइनल खेल रहा है, जिसे देखकर खुशी होने वाली है। 

लेखक- नीरज प्रसाद खेल विशेषज्ञ हैं 

Posted By: Vikash Gaur

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस