नई दिल्ली, जेएनएन। विराट कोहली साल 2014 में भारतीय टेस्ट टीम के कप्तान बने थे, लेकिन 2017 में वो तीनों फॉर्मेट के लिए टीम इंडिया के कप्तान बन गए। विराट की कप्तानी में टीम इंडिया ने कई उपलब्धि हासिल की है, लेकिन उनकी कप्तानी में कोई आइसीसी खिताब जीतने में सफल नहीं हो पाई है। विराट की कप्तानी में 2019 वनडे वर्ल्ड कप में टीम इंडिया सेमीफाइनल में बाहर हो गई थी तो इससे पहले 2017 चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल में टीम को हार मिली थी। भारतीय टीम ने आखिरी आइसीसी खिताब साल 2013 में एम एस धौनी की कप्तानी में जीता था। 

भारत में टी20 वर्ल्ड 2021 का आयोजन इस साल के अंत में होना है साथ ही 2023 वनडे वर्ल्ड कप को भी भारत ही होस्ट करेगा। विराट कोहली के पास मौका है कि वो अपनी कप्तानी में टीम इंडिया को आइसीसी खिताब दिलाएं। वहीं अगर विराट कोहली ये खिताब जीतने में सफल नहीं हुए तो क्या हो सकता है इसके बारे में इंग्लैंड क्रिकेट टीम के पूर्व स्पिनर मोंटी पनेसर ने बताया। 

मोंटी ने कहा कि, अगर विराट कोहली अपनी कप्तानी में भारत को टी20 वर्ल्ड कप या फिर वनडे वर्ल्ड कप में जीत दिलवाने में सफल नहीं हो पाए, जिसका आयोजन भारत में होगा तो उसके बाद वो कप्तानी छोड़ देंगे। मोंटी के मुताबिक भारत में ये दोनों इवेंट आयोजित होंगे और विराट को पास बड़ा मौका होगा। वो भारत के कप्तान हैं, लेकिन उन्हें निश्चित रूप से टी20 या वनडे वर्ल्ड कप में से एक जीतने की जरूरत है। 

मोंटी पनेसर ने अजिंक्य रहाणे की शानदार कप्तानी के बारे में बात करते हुए कहा कि, ये एक मजेदार डिबेट है। रहाणे और रोहित शर्मा की जोड़ी ने भारत के लिए अच्छा काम किया और दोनों ने लीडरशिप दिखाई। अब इन सभी लीडर्स को मैनेज करना विराट कोहली की कप्तानी के स्किल का अगला हिस्सा होगा। विराट कोहली को कप्तानी में तानाशाही रवैया पसंद है, लेकिन अब से उन्हें दूसरे लोगों की बातों को भी सुनना शुरू करना होगा। टेस्ट सीरीज के दौरान कई बार ऐसा हो सकता है कि, अब उन्हें अजिंक्य रहाणे, रवि शास्त्री और रोहित शर्मा की पसंद को भी सुनना पड़ सकता है। 

Ind-vs-End

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप