लंदन। पांच टेस्ट मैचों की सीरीज में भारतीय टीम इंग्लैंड के पुछल्ले बल्लेबाजों पर लगाम लगाने में असफल रही और भारतीय तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह ने भी माना टीम इंग्लैंड के निचले क्रम के बल्लेबाजों के खिलाफ योजना को लागू करने में नाकाम रही।

बुमराह ने दूसरे दिन का खेल खत्म होने के बाद कहा, '190 के आसपास सात विकेट चटकाकर हम अच्छी स्थिति में थे, लेकिन उन्होंने अच्छी बल्लेबाजी की और हम फायदा नहीं उठा सके। यह दोनों चीजों का संयोजन है। हमने सही क्षेत्र में गेंदबाजी के लिए कड़ी मेहनत की, लेकिन हमने उतनी अच्छी गेंदबाजी नहीं की और उन्होंने अच्छा जज्बा दिखाया।' निचले क्रम के बल्लेबाजों के खिलाफ आक्रमण के बारे में पूछने पर बुमराह ने कहा कि निचले क्रम के बल्लेबाजों के लिए कोई खास योजना नहीं है। आप हर बल्लेबाज के लिए योजना बनाते हैं, अगर वो निचले क्रम का बल्लेबाज है तो भी, हम इसका सम्मान करते हैं।

हमने शनिवार को योजना को लागू करने का प्रयास किया, लेकिन काम नहीं बना। टीम इंडिया ने पांचवें टेस्ट में ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या की जगह हनुमा विहारी को पहला टेस्ट खेलने का मौका दिया। यह पूछने पर कि क्या भारत को पांचवें गेंदबाज की कमी खली, बुमराह ने कहा, 'मुझे टीम चयन के बारे में जानकारी नहीं है। यह सवाल मैनेजमेंट के लिए है। जब आपके पास अतिरिक्त गेंदबाज होता है तो यह गेंदबाजी में आपको प्रयोग का मौका देता है। चार गेंदबाजों के साथ आपको अधिक ओवर फेंकने होते हैं क्योंकि आपको तब गेंदबाजी के लिए जल्दी लौटना होता है। केवल यही एक अंतर है। मुझे लगता है कि इसके अलावा हमने अपना सर्वश्रेष्ठ प्रयास किया। हमने पूरी जान के साथ गेंदबाजी की और काफी ओवर फेंके। एक अतिरिक्त गेंदबाज कई बार आपको पर्याप्त आराम का मौका देता है।

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Sanjay Savern