नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। भारत व इंग्लैंड के बीच खेला जाना वाला पांचवां टेस्ट मैच जिस नाटकीय अंदाज में कैंसल किया गया उससे क्रिकेट फैंस बेहद निराश हुए। कहा जा रहा है कि, भारतीय कैंप में कोरोना वायरस की एंट्री टीम के मुख्य कोच रवि शास्त्री की वजह से हुआ। दरअसल शास्त्री ने इंग्लैंड टेस्ट सीरीज के दौरान अपनी किताब का विमोचन किया था और उसके बाद ही वो सबसे पहले कोविड पाजिटिव पाए गए थे। इसके बाद टीम के कुछ सहायक कोच भी पाजिटिव हो गए थे। फिर पांचवें टेस्ट से पहले सहायक फीजियो को पाजिटिव होने के बाद इस मैच को कैंसल कर दिया गया था। 

इन सबके बाद इंग्लैंड और वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) के मुख्य कार्यकारी अधिकारी टॉम हैरिसन ने टीम इंडिया के हेड कोच रवि शास्त्री पर अपनी टीम में कोरोना फैलाने का आरोप लगाया था क्योंकि शास्त्री कुछ दिन पहले अपनी पुस्तक का विमोचन करने के लिए लंदन गए थे। अब शास्त्री ने इस अपने उपर लगाए गए आरोपों का खंडन किया। रवि ने इस बात को सिरे से खारिज कर दिया कि, उनकी जगह से भारतीय कैंप में कोरोना का मामला सामने आया। 

कोच रवि शास्त्री ने मिड-डे के साथ बात करते हुए कहा कि, इसके लिए इंग्लैंड खुद जिम्मेदार है। इस समय इंग्लैंड पूरी तरह से खुला हुआ है और सारी गतिविधियां चल रही हैं। पूरा देश खुला होने की वजह से ही कोरोना का मामला सामने आया। उन्होंने कहा कि, मेरे बुक लान्च के आयोजन से कोरोना मामलों पर कोई असर नहीं पड़ा है। पूरा इंग्लैंड इस वक्त ओपन है, इसलिए पहले टेस्ट मैच से ही कुछ भी हो सकता था।

आपको बता दें कि, शास्त्री ने एक सितंबर को अपनी किताब 'स्टार गेजिंग- द प्लेयर्स इन माइ लाइफ इन लंदन' का विमोचन किया था। इस मौके पर भारतीय क्रिकेट टीम के खिलाड़ी भी मौजूद थे। इस इवेंट के बाद लंदन के द ओवल टेस्ट मैच के दौरान शास्त्री कोरोना पाजिटिव पाए गए थे और वह मैच से हट गए थे। इसके बाद गेंदबाजी कोच भरत अरुण और फील्डिंग कोच आर श्रीधर भी पाजिटिव पाए गए थे।

Edited By: Sanjay Savern