नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। भारत व इंग्लैंड के बीच पांच मैचों की टेस्ट सीरीज का जिस तरह से समापन हुआ उससे क्रिकेट फैंस को काफी निराशा हुई। हालांकि इस सीरीज के चार मुकाबले खेले जा चुके थे जिसमें टीम इंडिया 2-1 की बढ़त बनाई हुई थी। हालांकि पांचवां मैच शुक्रवार से खेला जाने वाला था, लेकिन मैच शुरू होने से कुछ घंटे पहले ही इसे कैंसल कर दिया गया। वहीं इस टेस्ट सीरीज में खेले गए चार मुकाबलों की बात करें तो तीन टेस्ट मैचों में टीम इंडिया इंग्लैंड पर पूरी तरह से हावी रही थी। हालांकि एक टेस्ट में भारत को हार मिली थी, लेकिन इन चार मैचों का रिजल्ट 3-1 हो सकता था अगर पहले टेस्ट मैच के पांचवें दिन बारिश नहीं हुई होती। 

अगर पिछले एक महीने में भारत के प्रदर्शन पर नजर डाली जाए तो कई सकारात्मक चीजें सामने आती हैं। जसप्रीत बुमराह की फार्म में वापसी, शार्दुल ठाकुर की बल्लेबाजी और कई खिलाड़ियों के बीच मो. सिराज लगातार अपना कद और बढ़ाते जा रहे हैं। वहीं विराट कोहली की टीम के लिए दो सबसे बड़ी बढ़त उनके सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा और केएल राहुल की फॉर्म रही है। अब वीरेंद्र सहवाग ने रोहित शर्मा और केएल राहुल की खूब प्रशंसा की और बताया कि, अगर इन दोनों ने शीर्ष पर ठोस साझेदारी नहीं की होती तो भारतीय टीम इंग्लैंड में बुरी तरह से संघर्ष करती। 

सहवाग ने सोनी स्पोर्ट्स नेटवर्क पर बात करते हुए कहा कि, रोहित शर्मा और केएल राहुल के योगदान को नहीं भुलाया जा सकता है। अगर इन दोनों बल्लेबाजों को बीच साझेदारी नहीं हुई होती तो मध्यक्रम को रन बनाने में फेल हो रही थी और जल्दी आउट हो जाती और भारतीय टीम और भी जल्दी आउट हो जाता। वे भारत को मजबूत स्थिति में लाते थे, 30-40 ओवर तक बल्लेबाजी करते थे, हालांकि उसके बाद भी क्योंकि मध्यक्रम फॉर्म में नहीं था, हम कुछ मैचों में जल्दी आउट हो रहे थे।

राहुल और रोहित ने पूरे टेस्ट सीरीज के दौरान टीम के लिए प्रभावशाली साझेदारी की। इस जोड़ी ने लार्ड्स टेस्ट में शतकीय साझेदारी की थी तो वहीं नाटिंघम व ओवल में 50 रन से ज्यादा की साझेदारी की थी। इसके अलावा राहुल ने लार्ड्स में जबकि रोहित ने ओवल में शानदार शतकीय पारी खेली थी। सहवाग ने बताया कि राहुल और रोहित द्वारा की गई अच्छी शुरुआत के कारण भारत ने लगातार खुद को इस टेस्ट सीरीज में अच्छी स्थिति में पाया।

Edited By: Sanjay Savern