नई दिल्ली। एक बल्लेबाज के तौर पर विराट ने इंग्लैंड दौरे पर खुद को जरूर साबित किया लेकिन टेस्ट सीरीज में एक कप्तान के तौर पर वो खुद को साबित नहीं कर पाए और पांच टेस्ट मैचों की सीरीज में भारत को 4-1 से हार का सामना करना पड़ा। 

कप्तान के तौर पर विराट ने टेस्ट के दौरान सही अंतिम ग्यारह का चुनाव नहीं किया। मैच के दौरान उनकी गेंदबाजी और फील्डिंग की सेटिंग को लेकर भी सवाल उठे और आखिरकार इंग्लैंड में टेस्ट सीरीज का अंत हार के साथ हुआ। अब विराट की कमियों को देखते हुए भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर ने कहा कि उन्हें अभी काफी कुछ सीखने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि इंग्लैंड में भारतीय टीम का असफल होना चौंकाता नहीं है क्योंकि ये टीम लाल गेंद से क्रिकेट खेलने के लिए पूरी तरह से तैयार नहीं थी। हमने देखा कि दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ क्या हुआ था और उसके बाद इंग्लैंड में क्या हुआ। हम इस बार भी इंग्लैंड के खिलाफ तैयारी करने में सफल नहीं रहे। 

गावस्कर ने कहा कि हम सभी को पता है कि किसी भी खेल के लिए तैयारी कितना जरूरी है और हमें पता था कि क्या होना है। सच तो ये है कि जो कुछ हुआ उससे ज्यादा हमें आश्चर्य नहीं हुआ। अब मैं आशा करता हूं कि ऑस्ट्रेलिया दौरे पर भारतीय टीम इस तरह की गलती नहीं दोहराएगी। वैसे भी ऑस्ट्रेलिया इस बार स्टीव स्मिथ और डेविड वार्नर की गैरमौजूदगी में ज्यादा मजबूत नजर नहीं आ रही है। 

विराट की कप्तान के बारे में गावस्कर ने कहा कि उन्हें अभी बहुत कुछ सीखने की जरूरत है। जैसा कि हमने दक्षिण अफ्रीका या फिर इंग्लैंड में देखा कि सही वक्त पर गेंदबाजों को बदलना या सही फील्डिंग सेट करना एक बड़ा अंतर पैदा कर देता है। विराट में एक बार फिर से उसी बात की कमी दिखी। विराट वैसी ही कप्तानी कर रहे थे जैसा कि वो दो वर्ष पहले ही कर रहे थे। (वैसे विराट भारतीय टेस्ट टीम के कप्तान लगभग चार वर्ष पहले ही बन चुके थे।) इस बार भी उनकी कप्तानी में परिपक्वता देखने को नहीं मिली। उन्हें भारतीय पिच पर कप्तानी करने का ज्यादा अनुभव है जहां विकेट जल्दी गिरते हैं। उनके पास अच्छी साझेदारी को तोड़ने का अनुभव नहीं है। मुझे आशा है कि वो समय के साथ ये सीख जाएंगे। 

टीम कांबिनेशन के बारे में उन्होंने कहा कि टीम मैनेजमेंट को अंतिम ग्यारह के बारे में काफी सोच समझ कर फैसला करना चाहिए। हमें ओपनिंग बल्लेबाज, मध्यक्रम के बल्लेबाज और ऑलराउंडर्स का चुनाव विरोधी टीम की ताकत और पिच को अच्छी तरह से समझकर ही करना चाहिए। इंग्लैंड के खिलाफ  4-1 से मिली हार बड़ी हार है और इस टेस्ट सीरीज के दौरान इंग्लैंड ने हर अहम मौके पर हमें हराया। 

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Sanjay Savern