नई दिल्ली, जेएनएन। भारत और इंग्लैंड की टीम बुधवार से अहमदाबाद में शुरू हो रहे डे नाइट टेस्ट मैच में खेलने वाली है। दोनों ही टीम को लिए पिछला पिंक बॉल टेस्ट अच्छा नहीं रहा। भारतीय टीम एडिलेड टेस्ट की दूसरी पारी में महज 36 रन पर सिमट गई थी जबकि न्यूजीलैंड के खिलाफ इंग्लैंड की पारी 58 रन पर ढेर हो गई थी। मैच से एक दिन पहले भारतीय कप्तान विराट कोहली ने इस बारे में बात की।

कोहली ने कहा, "ये दोनों ही अनुभव दुनिया की दो बेहतरीन टीम के लिए बहुत ही अजीब रहा। अगर आप इंग्लैंड की टीम को यही सवाल पूछेंगे कि क्या वो 50 रन पर ऑलराउंड हो सकते है तो उनका जवाब ना होगा। आप समझ सकते हैं कि एक किसी खास दिन पर हो जाता है, चीजों अलग तरह से घटती हैं।"

आगे उन्होंने कहा, "आप जो भी करने की कोशिश करते हैं वो आपके नियंत्रण से बाहर हो जाता है और कुछ भी हक में नहीं जाता। एडिलेड टेस्ट मैच के दौरान ऐसा ही कुछ हुआ था। 45 मिनट के उस बुरे क्रिकेट के अलावा हमने टेस्ट मैच में हावी होकर खेला था। हमने जैसा पिंक बॉल टेस्ट में खेला है उसको लेकर आत्मविश्वास से भरे हैं। यहां तक की ऑस्ट्रेलिया में भी जहाम कि पिच से उनके तेज गेंदबाजों को मदद थी, अच्छा खेला। हमने उस एक चीज को भुलाकर शानदार वापसी की और मेलबर्न में जीत हासिल किया। 36 रन पर ऑलआउट होने वाली बात हमारे लिए बाधा नहीं बनी ना ही इसका कोई असर दिमाग पर पड़ा।"

लाल और गुलाबी गेंद में क्या अंतर है कोहली ने यह बात बताते हुए कहा, "पिंक बॉल उस लाल गेंद की तुलना में कहीं ज्यादा स्विंग करती है जिससे हमने खेला है। हमने जब बांग्लादेश के खिलाफ 2019 में एक मैच खेला तो यह अनुभव किया था। पिंक बॉल के खिलाफ खेलना काफी चुनौती भरा होता है चाहे पिच कैसी भी हो, खासकर शाम के वक्त को काफी मुश्किल होती है। एक बल्लेबाजी टीम के तौर पर अगर आप रौशनी में पारी शुरू कर रहे हैं तो पहले एक से डेढ घंटे काफी चुनौतीपूर्ण होते हैं।"

 

Ind-vs-End

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप