नई दिल्ली, जेएनएन। ऑस्ट्रेलिया के दौरे पर चार मैचों की टेस्ट सीरीज के पहले मैच में भारतीय टीम को शर्मनाक हार मिली थी। एडिलेड में खेले गए पहले डे नाइट टेस्ट में टीम इंडिया दूसरी पारी में महज 36 रन पर ढेर हो गई थी। टीम के फील्डिंग कोच आर श्रीधर ने बताया कि इसी रात कोहली ने उनको रात के साढे 12 बजे मैसेज किया था।

श्रीधर ने बताया, "वो दिन जब हम एडिलेड टेस्ट में हारे थे रात के 12.30 बज रहे थे। विराट कोहली का मैसेज आया मेरे पास, आप कैसे हैं? मैं एकदम से चौंक गया, इस वक्त वो मुझे आखिर क्यों मैसेज कर रहे हैं। मैंने कहा मैं, रवि शास्त्री, भरत अरुण और विक्रम राठौर साथ में बैठे हैं। उन्होंने कहा मैं भी आप लोगों के साथ आ सकता हूं क्या। इस पर मैंने कहा हां क्यों नहीं बिल्कुल आ जाइए।" 

भारतीय स्पिनर आर अश्विन से बात करते हुए भारत के फील्डिंग कोच आर श्रीधर ने बताया, "वो हमारे साथ वहां आकर जुड़े और फिर हम सभी ने चीजों पर चर्चा करनी शुरू की। यहीं से मिशन मेलबर्न शुरू हुआ। शास्त्री ने एक बात पर ध्यान दिलाया, यह 36 रन के स्कोर को एक बैच की तरह से रख लो यह 36 रन ही वो चीज है जो टीम को शानदार बनाएगा।" 

श्रीधर ने बताया कि अगले मैच में उतरने से पहले टीम मैनेजमेंट कॉम्बिनेशन को लेकर संशय में थी तो कोहली ही वो थे जिन्होंने कहा कि गेंदबाजी को मजबूत कीजिए। यह संदेश आप कप्तान अजिंक्य रहाणे और कोच रवि शास्त्री तक पहुंचा दीजिए।

आगे उन्होंने बताया, "हम इस बात को लेकर थोड़े संशय में थे फिर हमने इस बारे में बात करना शरू किया कि अब क्या फैसला करना है। इसके बाद अगली सुबह विराट ने रहाणे को फोन किाय और हमारा एक काफी अच्छा सेशन रहा था। 36 रन पर ऑलआउट होने के बाद आमतौर पर टीम बल्लेबाज को मजबूत करती है लेकिन रवि शास्त्री, कोहली और रहाणे ने गेंदबाजी को मजबूत करने का फैसला लिया। तभी हमने कोहली की जगह रवींद्र जडेजा को टीम में शामिल किया और यह मास्टर स्ट्रोक साबित हुआ।" 

 

Ind-vs-End

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप