नई दिल्ली, प्रेट्र। भारत के पूर्व बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग का मानना है कि विराट कोहली अपने चिर परिचित रंग में नहीं हैं जिसके लिए उन्हें जाना जाता है और एक आइपीएल सत्र में उन्होंने इतनी गलतियां की जितनी 14 वर्ष के अंतरराष्ट्रीय करियर में नहीं की।

पिछले ढाई साल से शतक नहीं बना सके कोहली अपने सबसे खराब दौर से गुजर रहे हैं। उन्होंने आइपीएल के इस सत्र में 16 मैचों में 22.73 की औसत से 341 रन बनाए जिसमें दो अर्धशतक शामिल थे। अधिकांश मैचों में उन्होंने पारी का आगाज किया। सहवाग ने कहा, 'यह वह विराट कोहली नहीं है जिसे हम जानते हैं। इस सत्र में दूसरा ही विराट खेल रहा है वरना एक सत्र में इतनी गलतियां की जितनी उसने अपने पूरे करियर में नहीं की।' उन्होंने हालांकि यह भी कहा कि भारत का यह नंबर एक बल्लेबाज अलग-अलग रणनीति अपनाने के चक्कर में आउट हुआ।

उन्होंने कहा, 'जब रन नहीं बनते तो ऐसा होता है। आप रन बनाने के कई तरीके तलाशने लगते हो और उस चक्कर में विकेट गंवा देते हो। इस सत्र में कोहली के साथ भी ऐसा ही हुआ। जब आपका फार्म खराब होता है तो आप हर गेंद को छेड़ने की कोशिश करते हैं। बल्लेबाज को लगता है कि गेंद को पीटकर आत्मविश्वास लौट आएगा।' सहवाग ने कहा कि कोहली ने अपने लाखों प्रशंसकों को निराश किया जो अपने सितारों से बड़े मंच पर बेहतरीन प्रदर्शन की उम्मीद करते हैं। उन्होंने कहा, 'उसने सभी को निराश किया। हम अपेक्षा करते हैं कि बड़े मैच में बड़ा खिलाड़ी चलेगा। उसने अपने आपको नहीं बल्कि उसके और आरसीबी के लाखों प्रशंसकों को निराश किया।'

मांजरेकर ने कोहली की बल्लेबाजी के तरीके पर उठाए सवाल : भारत के पूर्व बल्लेबाज संजय मांजरेकर ने विराट कोहली के खराब फार्म के लिए फ्रंट फुट पर बल्लेबाजी करने के तरीको को जिम्मेदार ठहराया है और कहा कि इसके कारण ही वह रन बनाने में असफल हो रहे हैं। मांजरेकर ने इस बात का भी उदाहरण दिया कि कैसे कोहली गलतियों को दोहराते हुए राजस्थान रायल्स के खिलाफ क्वालीफायर-2 मैच में आउट हुए। मांजरेकर ने अपने ट्वीट में कहा, फ्रंट फुट से लेकर शार्ट लेंथ तक उछलती गेंद पर कोहली एक बार फिर से अपना विकेट गंवा बैठे।

ली बोले, क्रिकेट से ब्रेक ले सकते हैं कोहली : आस्ट्रेलिया के पूर्व तेज गेंदबाज ब्रेट ली का मानना है कि भारतीय दिग्गज विराट कोहली दिमाग को तरोताजा करने और कुछ चीजों पर काम करने के लिए खेल से ब्रेक लेने पर विचार कर सकते हैं। ली ने कहा,' अगर मैं ये कहूं कि क्या यह चिंता का विषय है तो हां, यह चिंता का विषय है। मैं चाहूंगा कि कोहली अधिक रन बनाएं। कोहली को लेकर आमतौर पर यह बात रहती है कि जब वह अच्छा करते हैं तो टीम का प्रदर्शन भी अच्छा रहता है और जब वह रन नहीं बनाते हैं तो टीम अच्छा प्रदर्शन नहीं करती है। हो सकता है यह कोहली के लिए अभ्यास में वापस जाने और कुछ चीजों पर काम करने का मौका हो और शायद क्रिकेट से आराम करने से भी उन्हें फायदा होगा। उन्हें कुछ समय के लिए खेल से दूर रहकर दिमाग को तरोताजा करना चाहिए।'

Edited By: Sanjay Savern