नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। मिस्ट्री स्पिनर वरुण चक्रवर्ती आज क्रिकेट की दुनिया के उभरते सितारों में गिने जा रहे हैं, लेकिन एक समय ऐसा भी था जब इस खिलाड़ी के सितारे गर्दिश में थे। हालांकि, खुद के दम पर उन्होंने थोड़ा बहुत मुकाम बनाया, लेकिन वे ज्यादा सफल नहीं हुए। यहां तक कि आइपीएल 2019 के आक्शन में उनको 20 लाख की बेस प्राइस के बावजूद 8.4 करोड़ में पंजाब किंग्स ने खरीदा था, लेकिन उस सीजन में वे एक मैच खेल पाए थे। अगले साल जब कोलकाता ने उन्होंने 4 करोड़ में खरीदा तो उन्होंने 13 मैचों में 17 विकेट चटकाए थे।

वरुण चक्रवर्ती अगर आज क्रिकेटर नहीं होते तो आर्किटेक्ट होते, क्योंकि उन्होंने इसी की पढ़ाई की। पढ़ाई के साथ-साथ क्रिकेट खेली और फिर पढ़ाई के लिए क्रिकेट छोड़ दी। पढ़ाई पूर कर ली तो फिर से उन्होंने क्रिकेट को अपनाया, लेकिन इस बार उन्होंने नौकरी करना भी उचित समझा और एक आर्किटेक्ट फर्म के साथ जुड़े, लेकिन एक समय ऐसा आया जब उन्होंने पूरी तरह क्रिकेट पर फोकस किया और जैसे-तैसे वे कोलकाता नाइट राइडर्स यानी केकेआर के नेट गेंदबाज बने। इसके बाद उनकी क्रिकेट की यात्रा शुरू हुई।

उन्होंने बताया, "जब मैं राज्य स्तर के लिए चयनित नहीं हुआ, तो मैंने क्रिकेट छोड़ दिया और आर्किटेक्चर में पांच साल का कोर्स किया जो एक पूरी तरह से अलग दुनिया थी। किसी तरह, मैं अपनी डिजाइन अवधारणाओं में क्रिकेट लाता था, इसलिए मेरा पांचवां साल भी थीसिस एक क्रिकेट स्टेडियम के बारे में थी। आर्किटेक्चर खत्म करने के बाद, दस महीने तक मैंने काम नहीं किया। तभी मैंने क्रिकेट को फिर से लेने के बारे में सोचा, लेकिन कोई संपर्क नहीं था। मुझे खर्चों का ध्यान रखने के लिए काम करना पड़ा, इसलिए मैंने आर्किटेक्चर में नौकरी की और वीकेंड क्रिकेट खेला।"

वहीं, दिनेश कार्तिक ने उनको लेकर कहा, "मुझे उस पर पहले दिन से ही विश्वास था, मुझे पता था कि वह एक विशेष गेंदबाज है और उसमें कुछ अच्छा है।" इसके अलावा केकेआर के गेंदबाजी कोच अभिषेक नायर ने कहा, "पिछले साल वह चोटिल हो गए थे और एक सीजन तक कोई क्रिकेट नहीं खेला था, लेकिन हमने उन पर विश्वास किया और महसूस किया कि केकेआर अकादमी में उन्हें प्रशिक्षण देने से उन्हें अपने पैरों पर वापस आने में मदद मिलेगी, क्योंकि वह अच्छा प्रदर्शन करने के लिए बहुत दृढ़ थे।" केकेआर ने वरुण चक्रवर्ती के ऊपर एक शार्ट फिल्म बनाई है।

Edited By: Vikash Gaur