नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। तीसरे टेस्ट मैच में भारत ने साउथ अफ्रीका को जीत के लिए 212 रन का लक्ष्य मिला था, लेकिन जब चौथे दिन टीम इंडिया मैदान पर उतरी तब उसे जीत के लिए 8 विकेट गिराने थे जबकि मेजबान टीम को 111 रन बनाने थे। भारतीय कप्तान कोहली ने जसप्रीत बुमराह और मो. शमी को नई गेंद सौंपी, लेकिन वो जल्दी विकेट निकालने में कामयाब नहीं हो पाए। कीगन पीटरसन साउथ अफ्रीका के लिए बड़े विनर के तौर पर उभरे और 111 गेंदों पर 82 रन बनाते हुए अपनी टीम को जीत की राह पर ला दिया। इस मैच में चौथे दिन भारत को सिर्फ एक सफलता मिली और 7 विकेट से उसे हार मिली। 

अब मैच के चौथे दिन भारतीय टीम कप्तान कोहली की किस रणनीतिक कमी की वजह से विकेट हासिल करने में कामयाब नहीं हो पाई इसके बारे में सुनील गावस्कर ने बताया। उन्होंने स्टार स्पोर्ट्स पर बात करते हुए कहा कि ये मेरे लिए रहस्य था कि लंच के बाद शार्दुल ठाकुर और बुमराह ने गेंदबाजी क्यों नहीं की। ये ऐसा फैसला था जिसके बाद साबित हो गया था विराट कोहली तीसरा टेस्ट मैच नहीं जीतने जा रहे हैं। उन्होंने आगे कहा कि आर अश्विन की गेंदबाजी के वक्त फील्ड प्लेसमेंट भी सही नहीं था और इसकी वजह से बल्लेबाज आसानी से सिंगल ले रहे थे। पांच फील्डर डीप में थे।  

सुनील गावस्कर के पास साउथ अफ्रीकी बल्लेबाजी की तारीफ करने के अलावा और कुछ था ही नहीं जिन्होंने अविश्वसनीय रूप से शक्तिशाली भारतीय आक्रमण के खिलाफ शानदार बल्लेबाजी की। भारतीय तेज गेंदबाज बुमराह, शमी, शार्दुल और उमेश ने लगातार बल्लेबाजों से सवाल पूछे, लेकिन प्रोटियाज बल्लेबाजों ने डिलीवरी को उसकी योग्यता के आधार पर खेला और धीरे-धीरे लक्ष्य तक पहुंच गए। गावस्कर ने कहा कि जोहानसबर्ग की भी पिच बल्लेबाजी के लिए अच्छी नहीं थी, लेकिन साउथ अफ्रीकी बल्लेबाजी ने जिस तरह का प्रदर्शन किया उससे उनके चरित्र का पता चलता है। 

Edited By: Sanjay Savern