नई दिल्ली, जेएनएन। Ind vs Aus: अजिंक्य रहाणे की कप्तानी वाली टीम इंडिया ने मंगलवार को गाबा में ऑस्ट्रेलिया के किले को ध्वस्त कर इतिहास रच दिया। इसके बाद भारतीय टीम के पूर्व कप्तान और बॉर्डर-गावस्कर सीरीज में कमेंट्री करने वाले सुनील गावस्कर ने अजिंक्य रहाणे की अगुआई वाली टीम के प्रयास की सराहना करते हुए कहा कि युवा भारत अकल्पनीय करने से नहीं डरता है। भारत ने 2-1 से ऑस्ट्रेलिया को हराया है।

गावस्कर ने कहा कि इस जीत की शुरुआत शुभमन गिल के साथ हुई, जिन्होंने शानदार पारी खेली। उसके बाद अनुभवी योद्धा चेतेश्वर पुजारा ने सुनिश्चित किया कि मध्य के सत्र में ऑस्ट्रेलिया का आक्रमण प्रभावशाली नहीं रहे और, उसके बाद रिषभ पंत आए, जिन्हें रहाणे ने प्रमोट कर नंबर पांच पर भेजा। अब उनके नाम एक नाबाद रिकॉर्ड है। पुजारा की एक छोर पर मौजूदगी दूसरे बल्लेबाज को खुद को स्वतंत्र होकर खेलने की अनुमति देती है।

गावस्कर ने कहा, "देखिए, मैं उनके बारे में जो भी कहूंगा वो बहुत-बहुत कम होगा। उन्होंने भारतीय क्रिकेट के लिए अपने शरीर पर हमला झेला। वह डरे नहीं। उनकी मौजूदगी ने दूसरे छोर पर शॉट खेलने वाले युवा खिलाड़ियों को भी विश्वास दिया कि यहां कोई ऐसा है जो दूसरे छोर को संभाले हुए है इसलिए उनकी पारी बहुत ही महत्वपूर्ण थी, क्योंकि यदि भारत दूसरे सत्र में दो विकेट गंवा देता तो इससे चीजें मुश्किल हो जातीं।"

पूर्व कप्तान ने आगे कहा, "यह सीरीज जीत और भी शानदार है, क्योंकि इस बार ऑस्ट्रेलिया की पूरी ताकत वाली टीम थी। मुझे लगता है कि भारतीय क्रिकेट का भविष्य इतना उज्ज्वल है कि हम हर आगामी सीरीज के लिए बड़ी उम्मीद कर सकते हैं।" भारतीय टीम को पहले मैच में बुरी तरह हार का सामना करना पड़ा था। बावजूद इसके भारत ने 2-1 से सीरीज अपने नाम कर इतिहास रच दिया और कंगारू टीम की बोलती बंद कर दी।

Ind-vs-End

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप