नई दिल्ली, जेएनएन। टीम इंडिया के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड यानी बीसीसीआइ पर निशाना साधा है। सौरव गांगुली ने बीसीसीआइ के कुछ मौजूदा फैसलों को लेकर कहा है कि भगवान इंडियन क्रिकेट की सहायता करो। पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने ऐसा इसलिए कहा है क्योंकि द वॉल कहे जाने वाले राहुल द्रविड़ को बीसीसीआइ ने हितों के टकराव के आरोपों का नोटिस भेजा है। 

मंगलवार को बीसीसीआइ ने बेंगलुरु स्थित नेशनल क्रिकेट अकेडमी के चीफ और पूर्व क्रिकेटर राहुल द्रविड़ को बोर्ड के नैतिक अधिकारी डीके जैन ने Conflict of interest यानी हितों के टकराव का नोटिस थमाया है। इसी बात को लेकर 47 वर्षीय सौरव गांगुली ने एक ट्वीट करते हुए बीसीसीआइ पर अपनी भड़ास निकाली है, जिसका समर्थन हरभजन सिंह ने भी किया है।  

सौरव गांगुली ने अपने ट्विटर अकाउंट पर लिखा है, "न्यू फैशन इन इंडियन क्रिकेट...Conflict of interest...खबरों में बने रहने का सबसे अच्छा तरीका...गॉड हेल्प इंडियन क्रिकेट....द्रविड़ को बीसीसीआइ के एथिक्स ऑफिसर से हितों के टकराव का नोटिस मिला है।" 

भारतीय टीम में उनके साथ रहने ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह ने भी इस खबर भी ठीक इसी तरह की प्रतिक्रिया दी है। हरभजन सिंह ने कहा है कि इस तरह के नोटिस लीजेंड क्रिकेटर्स का अपमान कर रहे हैं।  

हरभजन सिंह ने सौरव गांगुली का ट्वीट रिट्वीट करते हुए लिखा है, "वास्तव में ?? यह नहीं जानते कि यह कहां जा रहा है .. आप भारतीय क्रिकेट के लिए इनसे बेहतर व्यक्ति नहीं पा सकते। इन दिग्गजों को नोटिस भेजना उनका अपमान करने जैसा है .. क्रिकेट को बेहतरी के लिए उनकी सेवाओं की जरूरत है .. हां भगवान भारतीय क्रिकेट को बचाओ।"

मध्य प्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन(MPCA) के एक सदस्य संजीव गुप्ता ने एथिक्स ऑफिसर जस्टिस डीके जैन को शिकायत दर्ज कराई है। संजीव गुप्ता के अनुसार, राहुल द्रविड़ कथित तौर पर NCA के डायरेक्टर हैं और साथ ही साथ एक एम्पलोयी की तरह वे इंडिया सीमेंट ग्रुप के वाइस प्रेसिडेंट हैं, जिसकी खुद की आइपीएल फ्रेंचाइजी चेन्नई सुपर किंग्स है।

उधर, डीके जैन ने कहा है, "हां, मैंने राहुल द्रविड़ को एक शिकायत मिलने के बाद पिछले सप्ताह एक नोटिस भेजा है। हितों के टकराव के आरोपों पर जवाब देने के लिए उनको दो हफ्ते का समय दिया गया है। उनके जवाब के आधार पर मैं आगे की कार्यवाही करूंगा।" 

बता दें कि राहुल द्रविड़ से पहले, क्रिकेट एडवाइजरी कमेटी के पूर्व सदस्य सचिन तेंदुलकर, वीवीएस लक्ष्मण और सौरव गांगुली को भी हितों के टकराव का नोटिस थमाया गया था। इन तीनों महान खिलाड़ियों को आइपीएल के अलावा कई और कामों में लिप्त बताया गया था। 

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Vikash Gaur

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस