नई दिल्ली, जेएनएन। चेतन शर्मा की अगुआई में भारतीय क्रिकेट टीम के सेलेक्टर्स ने 10 जून के श्रीलंका दौरे के लिए 20 सदस्यीय टीम इंडिया का सेलेक्शन किया। इस टीम में युवा खिलाड़ियों की भरमार है और इस टीम की कप्तानी सीनियर खिलाड़ी शिखर धवन को दी गई। शिखर धवन दो बार टीम इंडिया के लिए उप-कप्तानी कर चुके हैं, लेकिन वो पहली बार मैन इन ब्लू की कप्तानी करते नजर आएंगे वहीं इस टीम का उप-कप्तान भुवनेश्वर कुमार को बनाया गया है। भुवनेश्वर कुमार आइपीएल में सनराइडर्स हैदराबाद की कप्तानी कर चुके हैं। 

श्रीलंका दौरे के लिए टीम इंडिया में मनीष पांडे की वापसी हुई है जो पिछले काफी वक्त से टीम से बाहर चल रहे थे। अब उन्हें लेकर पूर्व भारतीय तेज गेंदबाज डोडा गणेश ने कहा कि, मनीष पांडे को श्रीलंका दौरे के लिए भारतीय टीम का कप्तान बनाया जाना चाहिए था इसके अलावा उन्होंने भुवनेश्वर कुमार को टीम का उप-कप्तान बनाए जाने पर भी हैरानी जताई। स्पोर्ट्सकीड़ा से बात करते हुए डोडा गणेश ने कहा कि, अगर कप्तानी के लिए सीनियर खिलाड़ी होना ही मेजर था तो श्रीलंका दौरे के लिए मनीष पांडे को टीम इंडिया का कप्तान बनाया जाना चाहिए था। 

उन्होंने आगे कहा कि, भुवनेश्वर कुमार टीम की उप-कप्तानी करने के लिए किस तरह से फिट हैं। मनीष पांडे खिलाड़ियों को जानते हैं और उन्होंने काफी यात्रा भी की है। अगर शिखर धवन को इंग्लैंड दौरे के लिए बैकअप खिलाड़ी के तौर पर चुना जाता तो फिर कौन टीम की कप्तानी करता। वरिष्ठता के मामले में फिर मनीष पांडे को ही कप्तान बनाया जाएगा। आपको बता दें कि, भुवनेश्वर कुमार मनीष पांडे के मुकाबले ज्यादा सीनियर हैं। भुवी ने साल 2012 में टी20 इंटरनेशनल क्रिकेट में डेब्यू किया था जबकि मनीष पांडे का पदार्पण 2015 में हुआ था। 

इसके अलावा धवन रेड गेंद के क्रिकेट में टीम इंडिया कि स्कीम में कहीं फिट नहीं होते और वो साल 2018 से ही टेस्ट टीम से बाहर चल रहे हैं और ऐसी स्थिति में उन्हें टेस्ट सीरीज के लिए बैकअप खिलाड़ी बनाया जाता ऐसा लगता तो नहीं था। भारत को श्रीलंका में तीन-तीन मैचों की वनडे व टी20 सीरीज में हिस्सा लेना है। वनडे मैच 13,16 और 18 जुलाई को जबकि टी20 मुकाबले 21,23 और 25 जुलाई को खेले जाएंगे। 

Edited By: Sanjay Savern