हैमिल्टन, प्रेट्र। न्यूजीलैंड क्रिकेट टीम के सीनियर व धाकड़ बल्लेबाज अपने टेस्ट करियर में एक खास मुकाम हासिल करने जा रहे हैं। भारत के खिलाफ पहले टेस्ट मैच में मैदान पर कदम रखते ही वो अपने टेस्ट करियर का 100वां मैच खेलेंगे। रोस टेलर सौ से ज्यादा वनडे और टी 20 मैच खेल चुके हैं और अब वो अपना सौवां टेस्ट मैच भी खेलने जा रहे हैं। रोस टेलर दुनिया के पहले ऐसे बल्लेबाज बनने वाले हैं जो क्रिकेट के तीनों प्रारूपों में सौ मैचों का आंकड़ा पार कर लेंगे। 

रोस टेलर ने अपने टेस्ट करियर में ये उपलब्धि हासिल करने की बात करते हुए कहा कि किसी भी खिलाड़ी का करियर परफेक्ट नहीं होता और कई बार आपको नाकामी भी झेलनी पड़ती है। हालात और आपके द्वारा की गई गलतियां ही आपको परिपक्व बनाती है। जब उनसे पूछा गया का सौवां टेस्ट उनसे लिए क्या मायने रखता है इस पर उनका जवाब था कि मैं अब उम्रदराज हो गया हूं, लेकिन ये उपलब्धि अपने आप में शानदार है। न्यूजीलैंड की तरफ से रोस टेलर से ज्यादा टेस्ट मैच खेलने का कमाल करने वाले खिलाड़ी स्टीफन फ्लेमिंग, डेनियल विटोरी और ब्रैंडन मैकुलम ही हैं। 

रोस टेलर अब 35 साल के हो चुके हैं और उनका कहना है कि एक बल्लेबाज के रूप में मैंने  अपने टेस्ट करियर में कई उतार-चढ़ाव देखे हैं। वेलिंग्टन की मेरे दिल में खास जगह है और मैं  अपने करियर के आखिरी दौर में इन सुनहरी यादों को सहेजकर रखूंगा। भारत और न्यूजीलैंड के बीच दो टेस्ट मैचों की सीरीज का पहला मुकाबला वेलिंग्टन में खेला जाएगा। 

रोस टेलर ने कहा कि मेरे टेस्ट करियर के इस एतिहासिक मैच में मेरे जज्बात मुझ पर हावी नहीं होंगे। उन्होंने कहा कि सच तो ये है कि ये भी मेरे लिए एक मैच ही है और इसमें भी मेरी कोशिश टीम को जीत दिलाने की ही होगी। मैं इस गेम का पूरा मजा लूंगा और मैदान पर उतरने के बाद हर खिलाड़ी यही करना चाहता है। टेलर ने अपनी उपलब्धियों का श्रेय पत्नी विक्टोरिया को दिया और कहा कि मेरी पत्नी विक्टोरिया के लिए तीन बच्चों को अकेले पालना आसान नहीं था। हम इतना समय खेलते हैं लेकिन जब घर पर होते हैं तो मैं उनका पिता होता हूं। मेरे बच्चे इतने बड़े हो गए हैं कि समझते हैं कि उनके पिता क्या करते हैं। 

Posted By: Sanjay Savern

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस