नई दिल्ली, जेएनएन। रिषभ पंत को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेले गए चार मैचों की टेस्ट सीरीज के तीन मैचों में खेलने का मौका मिला। इन मैचों में मिले मौके पर उन्होंने खुद को साबित करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। खास तौर पर बल्लेबाजी में उन्होंने खूब प्रभावित किया और वो भारत की तरफ से इस टेस्ट सीरीज में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज भी रहे। रिषभ ने आखिरी टेस्ट में यानी ब्रिसबेन की दूसरी पारी में नाबाद 89 रन की पारी खेलते हुए टीम को जीत दिलाई और मैन ऑफ द मैच भी बने। इस जीत के साथ भारत ने टेस्ट सीरीज में 2-1 से जीत भी दर्ज की। 

अपने प्रदर्शन के दम पर ब्रिसबेन टेस्ट में प्लेयर ऑफ द मैच का खिताब जीतने के बाद रिषभ पंत ने कहा कि, ये मेरी जिंदगी के सबसे बड़े दिनों में से एक है। जब में नहीं भी खेल रहा था तब भी टीम की तरफ से जो समर्थन मुझे मुला वो अविश्वसनीय था। ये सपने के सच होने जैसा था। एडिलेड में खेले गए पहले टेस्ट में मिली हार के बाद हमने काफी कठिन प्रैक्टिस की थी। टीम मैनेजमेंट ने हमेशा मेरा सपोर्ट किया और हमेशा मुझे ये कहा जाता था कि, तुम एक मैच विनर हो तुम्हें वहां जाकर मैच जीतना है और मुझे खुशी है कि मैंने वैसा ही किया। मैं खुश हूं कि मैं टीम को जीत दिलवा पाया। ये पांचवें दिन की पिच थी और गेंद टर्न हो रही थी। ऐसे में बल्लेबाजी करना आसान नहीं था। 

आपको बता दें कि रिषभ पंत ने इस टेस्ट सीरीज में भारत की तरफ से खेलते हुए तीन मैचों की 5 पारियों में सबसे ज्यादा 274 रन बनाए और दो अर्धशतक भी लगाए। रिषभ ने सिडनी टेस्ट मैच की दूसरी पारी में 97 रन बनाकर टीम को मुसीबत से बाहर निकाला और मैच को ड्रॉ कराने में भी बड़ी भूमिका निभाई थी। भारत ने रहाणे की कप्तानी में फिर से ऑस्ट्रेलिया को उनकी धरती पर टेस्ट सीरीज में 2-1 से हराया। 

Ind-vs-End

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप