नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट टीम के कोच रवि शास्त्री ने कहा कि इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज उन्होंने उस टीम के सामूहिक प्रयास से नहीं गंवाया बल्कि वो ऑल राउंडर सैम कुर्रन थे जिनके व्यक्तिगत प्रदर्शन ने भारतीय टीम को घुटने टेकने पर मजबूर कर दिया। 

शास्त्री ने कहा कि मैं ये नहीं कह सकता कि हम पूरी तरह से फेल हो गए, हमने कोशिश की। अगर मुझसे और विराट से इंग्लैंड की तरफ से मैन ऑफ द सीरीज चुनने को कहा जाए तो हम कुर्रन को चुनेंगे। इस खिलाड़ी ने टीम के लिए उस वक्त रन बनाए जब उन्हें इसकी जरूरत थी और इसी ने हमें सबसे ज्यादा परेशान किया। इंग्लैंड टीम से ज्यादा हम कुर्रन की वजह से हारे। इसके बाद शास्त्री ने उस वक्त का भी जिक्र किया जब कुर्रन ने अपनी टीम के लिए अहम योगदान किया। 

पहले टेस्ट मैच में दूसरी पारी में इंग्लैंड का स्कोर सात विकेट पर 87 रन था। उस वक्त उन्होंने टीम के लिए रन बनाए। इसके बाद चौथे टेस्ट में इंग्लैंड का स्कोर पहली पारी में छह विकेट पर 86 रन था और उन्होंने उस अहम वक्त पर टीम के लिए स्कोर किया। उन्होंने अपनी टीम के लिए हर विपरीत वक्त में रन बनाए और विकेट लिए। यहीं दोनों टीमों में अंतर पैदा कर गया। उन्होंने टीम की रैंकिंग पर कहा कि हम इस वक्त भी टेस्ट में नंबर एक रैंकिंग पर हैं साथ ही ये सबको पता है कि इंग्लैंड को हमने अच्छी टक्कर दी। 

शास्त्री से पूछा गया कि क्या टीम का आलोचना से कोई फर्क पड़ रहा है तो उन्होंने कहा कि इससे कोई फर्क नहीं पड़ता। हमने क्या किया ये हमें पता है। टीम सही दिशा में जा रही है। लोगों को अपने विचार रखने का पूरा हक है। हम अपना काम कर रहे हैं और हमें पता है कि हम ईमानदारी से अपना काम कर रहे हैं। टीम के सपोर्ट स्टाफ भी अपनी पूरी मेहनत से सही दिशा में खिलाड़ियों की मदद कर रहे हैं। आलोचक क्या कह रहे हैं इससे कुछ ज्यादा फर्क नहीं पड़ता। इस टीम ने पिछले तीन से चार वर्ष में क्या किया है हमें पता है। पिछले चार वर्षों में इस टीम ने नौ टेस्ट सीरीज बाहर जीते हैं। 

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Sanjay Savern