नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली के साथ मिलकर काम करने वाले कोच रवि शास्त्री इन दिनों काफी चर्चा में हैं। टीम इंडिया के कोच पद को छोड़ने के बाद से ही वह लगातार कहीं ना कहीं इंटरव्यू दे रहे हैं। लेकिन अबकी बात उनकी चर्चा किसी बयान की वजह से नहीं बल्कि अपने एक ट्वीट के कारण हो रही है। बीसीसीआइ को घरेलू टूर्नामेंट रणजी ट्राफी की अनदेखी को लेकर उन्होंने तीखी प्रतिक्रिया दी है।

बीसीसीआइ सचिव जय शाह ने शुक्रवार को पुष्टि करते हुए कहा कि स्थगित की गई रणजी ट्राफी अगले महीने से दो चरण में खेली जाएगी। पिछले साल कोरोना महामारी के कारण टूर्नामेंट का आयोजन नहीं किया गया था। समझा जाता है कि 38 टीमों का यह टूर्नामेंट फरवरी के दूसरे सप्ताह में शुरू होगा और पहला चरण एक महीने तक चलेगा। पहले इसका आयोजन 13 जनवरी से होना था, लेकिन कोरोना महामारी की तीसरी लहर के कारण इसे स्थगित कर दिया गया था।

शाह ने कहा, 'बोर्ड ने रणजी ट्राफी का आयोजन दो चरण में करने का फैसला किया है। पहले चरण में लीग स्तर के मैच होंगे और नाकआउट जून में खेले जाएंगे। मेरी टीम महामारी के कारण स्वास्थ्य को लेकर किसी तरह के जोखिम से निपटने के लिए पूरी तैयारी कर रही है।' पहला चरण आइपीएल से ठीक पहले होगा जबकि दूसरे चरण के मुकाबलों को इसके बाद खेला जाना है। बीसीसीआइ सचिव के हवाले से इस बात की जानकारी दी गई है। 

पूर्व भारतीय कोच को बीसीसीआइ द्वारा रणजी ट्राफी को दो चरण में कराए जाने की योजना रास नहीं आई। उन्होंने बोर्ड पर इस प्रतिष्ठित टूर्नामेंट की अनदेखी करने का आरोप लगाया। रवि ने ट्विटर पर लिखा, रणजी ट्राफी भारतीय क्रिकेट की रीढ़ की हड्डी है। जिस पल आप इसकी अनदेखी करना शुरू करेंगे उसी पल हमारा क्रिकेट कमजोर हो जाएगा।  

Edited By: Viplove Kumar