नई दिल्ली, रायटर : भारतीय टीम के कोच रवि शास्त्री ने शनिवार को कहा कि टीम 2018 में अपने बुरे यात्री के टैग को दक्षिण अफ्रीका दौरे में बदलकर रख देगी। टेस्ट रैंकिंग में शीर्ष पर कायम भारत ने बुधवार को ही नौ सीरीज जीतकर ऑस्ट्रेलिया के रिकॉर्ड की बराबरी की है। इनमें से छह जीत भारत ने घर में दर्ज की, जबकि एशिया से बाहर सिर्फ एक सीरीज जीत उन्हें वेस्टइंडीज में मिली है। भारतीय टीम के लिए असल टेस्ट 2018 में होगा जहां उन्हें दक्षिण अफ्रीका, इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया में जाकर खेलना है।

रवि शास्त्री ने कहा कि यह टीम अच्छी है। ये टीम खुद को साबित करने के लिए भूखी है। यह कहा जाता है कि भारतीय टीम बुरी यात्री है। वह विदेश में अच्छा नहीं कर पाती है। हम वो टीम बनना चाहते हैं जो इस बात को बदलकर रख दे। मुङो लगता है कि ये साबित करने के लिए सही साल 2018 ही है। हम घर और विदेश में खेलने के बारे में इतना नहीं सोचते हैं। जहां कहा जा रहा है कि वहां की परिस्थितियां भारतीय खिलाड़ियों के लिए अच्छी नहीं रहती है।

जब आप कोलकाता में कोई टेस्ट खेलते हैं तो आप वहां अगला टेस्ट कम से कम दो साल या तीन साल में खेलते हैं। यही विदेशी दौरों पर भी साबित होगा। भारतीय टीम को पांच जनवरी से दक्षिण अफ्रीका में तीन टेस्ट खेलने हैं। साथ ही छह वनडे और तीन टी-20 मुकाबले भी। विश्व की दूसरे नंबर पर स्थित टीम दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ भारतीय टीम स्पिन नहीं तेज गेंदबाजी को ही हथियार बनाएगी। जसप्रीत बुमराह के बारे में शास्त्री ने कहा कि कि वह बस खुद को शीर्ष पर पहुंचाने के लिए कार्य कर रहे हैं। बुमराह टीम के तेज गेंदबाजी आक्रमण को एक नया रूप देंगे। हमें दक्षिण अफ्रीका में 20 विकेट निकालने होंगे।

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

अन्य खेलों की खबरों के लिए यहां क्लिक करें  

Posted By: Pradeep Sehgal

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप