नई दिल्ली, जेएनएन। पाकिस्तान के पूर्व कप्तान राशिद लतिफ ने टीम इंडिया के पूर्व कप्तान राहुल द्रविड़ की जमकर तारीफ की है। उन्होंने कहा जब कभी भी भारतीय टीम मुश्किल में होती थी तो वह द्रविड़ ही थे जो सामने आकर टीम के संभालते थे। हर बड़ी साझेदारी में उनका नाम है और उन्होंने दुनिया के हर कोने में रन बनाए हैं।

"जब दबाव में तकनीक और प्रदर्शन की बात आती है तो राहुल द्रविड़ उन सभी से एक कदम आगे हैं जिन्होंने भी भारतीय टीम की तरफ से खेला है। जैसा कि मैंने जिक्र किया सहवाग, द्रविड़ ये सभी तेंदुलकर की छाया में खेले।"

लतिफ ने माना कि वो राहुल द्रविड़ ही थे जो भारतीय टीम के शुरुआत में लगे झटके से उबारते थे। वह टीम में लगातार गिरते विकटों के बीच संभालने का काम किया करते थे। राहुल टीम इंडिया और गेंदबाजों के बीच एक दीवार की भूमिका निभाते थे तभी उनको द वॉल बुलाया जाता था।" 

उन्होंने कहा, "शुरुआत से ही आक्रमण करने के लिए तेंदुलकर में काफी आत्मविश्वास था। इससे ये नहीं पता चलता कि द्रविड़ के अंदर ऐसी काबिलियत नहीं थी लेकिन वो अलग भूमिका निभाते थे। जब भारतीय टीम जल्दी एक दो विकेट खो देती थी तो वही सबसे अहम खिलाड़ी होते थे इसी वजह से तो उनके द वॉल बुलाया जाता था। जब कभी भी आप साझेदारी को देखने जाएंगे तो द्रविड़ का नाम कई बार मिलेगा, तेंदुलकर के साथ, सहवाग और सौरव के साथ में।"

वनडे क्रिकेट में पहली बार जब 300 रन की साझेदारी कि गई तो उसमें भी द्रविड़ शामिल थे। साल 1999 विश्व कप के दौरान श्रीलंका के खिलाफ उन्होंने सौरव गांगुली के साथ मिलकर 318 रन की साझेदारी निभाई थी। "मेरा मतलब है मुझे एक जगह का नाम बताईए जहां उन्होंने रन नहीं बनाया हो। उन्होंने पाकिस्तान के खिलाफ रन बनाया। वह ऑस्ट्रेलिया, साउथ अफ्रीका, वेस्टइंडीज, इंग्लैंड हर जगह कमाल के थे।"

 

Posted By: Viplove Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस