नई दिल्ली, आइएएनएस। इंग्लैंड में इस समय द हंड्रेड नाम से 100 गेंदों वाले मैचों की प्रतियोगिता खेली जा रही है। महिलाओं की प्रतियोगिता में 5 भारतीय खिलाड़ी भी खेल रहे हैं। वहीं, 100 गेंदों वाले इस टूर्नामेंट को लेकर भारतीय टीम के पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर और भारतीय टीम के मौजूदा ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन के विचार अलग-अलग हैं। एक तरह से वे एक-दूसरे के आमने-सामने हैं।

भारतीय टीम के पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर ने 100 गेंदों वाले क्रिकेट टूर्नामेंट द हंड्रेड की आलोचना की है, जबकि आर अश्विन ने इसे बेहतरीन बताया है। अश्विन ने अपने यूट्यूब चैनल से कहा, "जो लोग इस प्रारूप (द हंड्रेड) को नहीं समझ पा रहे हैं, वही इसके फॉर्मेट और नियमों में बदलाव की बात कर रहे हैं। कई लोग इनोवेशन को प्रोत्साहित नहीं करते और इसे गलत समझते हैं।" अश्विन ने यहां एक इसकी तुलना एक फिल्म से की है।

उनका कहना है, "जब कोई फिल्म बनाता है और हम लोग उसे देखने जाते हैं, तभी इसकी आलोचना करते हैं, लेकिन थिएटर जाने से पहले ही कमेंट करना सही नहीं है। मैंने महिलाओं के मैच में ओवल इंविंसिबल्स और मैनचेस्टर ओरिजिनल्स के बीच मुकाबला देखा। नाम अलग होने से मैच बेहतरीन रहा। मुझे खुशी होगी अगर महिला आइपीएल का आयोजन किया जाए।"

अश्विन का कहना है, "हंड्रेड फॉर्मेट का शुरू होना उत्साहित करने वाला है। कई लोगों का मानना है कि इस प्रारूप से खिलाड़ियों के प्रदर्शन पर प्रभाव पड़ेगा, लेकिन मुझे यह मजेदार लग रहा है।" वहीं, अगर महान बल्लेबाज और दिग्गज क्रिकेट एक्सपर्ट सुनील गावस्कर ने इस टूर्नामेंट को सामान्य क्रिकेट बताया है। गावस्कर ने अपने एक बयान में कहा था, "टीवी पर इसे देखने के बाद एक ही शब्द दिमाग में आता है वो है फीका। यहां सामान्य क्रिकेट खेला जा रहा है।"

Edited By: Vikash Gaur