कराची। पाकिस्तान क्रिकेट टीम के पूर्व ओपनर बल्लेबाज शारजील खान (Sharjeel Kahn) स्पॉट फिक्सिंग मामले में दोषी पाए गए थे और इसके लिए उन्होंने 30 महीने बैन की सजा भी काटी। उनकी ये सजा शनिवार को पूरी हो गई है, लेकिन पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) ने साफ कर दिया है कि एक बार फिर से उन्हें क्रिकेट के मैदान पर वापसी के लिए ये शर्त पूरी करनी होगी। पीसीबी का कहना है कि शारजील को अपनी गलती स्वीकार करके भ्रष्टाचार रोधी पुनर्वास कार्यक्रम में हिस्सा लेना होगा। 

शारजील खान को पाकिस्तान सुपर लीग (पीएसएल) में फिक्सिंग का दोषी पाए जाने के बाद अगस्त 2017 में उन्हें पांच वर्ष के लिए बैन कर दिया गया था, लेकिन पीसीबी की भ्रष्टाचार रोधी न्यायधिकरण ने उनके निलंबन की आधी सजा रद्द कर दी थी। पीसीबी के भ्रष्टाचार रोधी न्यायधिकरण ने शारजील के साथ खालिद लतीफ, मोहम्मद इरफान, मोहम्मद नवाज, नसीर जमशेद जब शाहबाज हसन को भी मैच फिक्सिंग में लिप्त पाया था।

पीसीबी के एक अधिकारी ने कहा कि शारजील को सितंबर में होने वाले कायदे आजम ट्रॉफी में खेलने का मौका मिल सकता है लेकिन इसके लिए उन्हें स्पॉट फिक्सिंग में अपनी संलिप्तता स्वीकार करनी होगी और अपने कार्यों के लिए माफी मांगनी होगी।

उन्होंने कहा कि सलमान बट्ट और मोहम्मद आसिफ को भी क्रिकेट में वापसी के लिए 2015 में ऐसा ही करना पड़ा था। शारजील से जुड़े एक सूत्र ने बताया कि उन्होंने अपने खिलाफ लगे पांच आरोपों को मान लिया लेकिन यह स्वीकार नहीं किया कि वह स्पॉट फिक्सिंग में शामिल थे और इससे उन्हें वित्तीय फायदा हुआ था।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Sanjay Savern

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप