नई दिल्ली, पीटीआइ। सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त BCCI के लोकपाल न्यायमूर्ति (सेवानिवृत्त) डी के जैन ने क्रिकेटर हार्दिक पंड्या और केएल राहुल को टीवी शो में दिए सेक्सिस्ट टिप्पणी पर अपना पक्ष रखने के लिए नोटिस जारी किया है। इससे दोनों खिलाड़ियों की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। इससे पहले कमेटी ऑफ एडमिनिसट्रेशन ने लोकपाल की जांच पूरी होने तक इन दोनों को निलंबित कर दिया था। हालांकि, बाद में यह बैन हटा लिया गया।

लोकपाल जस्टिस ने नोटिस जारी करते हुए कहा, 'मैंने पिछले हफ्ते हार्दिक पंड्या और केएल राहुल को नोटिस जारी किया है और उन्हें अपना पक्ष रखने के लिए कहा है।' हालांकि, यह स्पष्ट नहीं है कि BCCI पंड्या और राहुल के संबंधित फ्रेंचाइजी मुंबई इंडियंस और किंग्स इलेवन पंजाब के साथ कैसे तालमेल बिठाएगी। फिलहाल, दोनों खिलाड़ी इस आइपीएल में हिस्सा ले रहे हैं।

यह माना जा रहा है कि वे दोनों 11 तारीख को होने वाले मैच के बाद लोकपाल के सामने अपना पक्ष रखेंगे।

इस मामले और आइपीएल को लेकर BCCI अधिकारी ने कहा, 'दोनों आइपीएल खेल रहे हैं और बैक टू बैक मैचों हैं।' वहीं जस्टिस जैन ने कहा कि मेरा दोनों खिलाड़ियों का पक्ष जानना जरूरी है। अब यह उन पर निर्भर करता है कि वे अपना पक्ष कब रखते हैं। बता दें कि, टीवी पर प्रसारित होने वाले एक चैट शो में राहुल और पंड्या के विवादित बयान के बाद उन्हेें ऑस्ट्रेलिया दौरे से वापस बुला लिया गया था।

वहीं लोकपाल जस्टिस जैन को भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली की कथित 'कॉनफ्लिक्ट ऑफ इंटरेस्ट' के बारे में भी शिकायत मिली है। गांगुली फिलहाल, क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ बंगाल (कैब) के अध्यक्ष और आइपीएल फ्रेंचाइजी दिल्ली कैपिटल्स के साथ बतौर सलाहकार जुड़े हैं।

 

Posted By: Rajat Singh