केपटाउन, आईएएनएस। इंडियन प्रीमियर लीग के 13वें सीजन के आयोजन पर कोरोना वायरस की वजह से संकट के बाद मंडरा रहा है। टूर्नामेंट नहीं किए जाने पर फ्रेंचाइजी टीम ने साफ किया है कि खिलाड़ियों को सैलरी नहीं दी जाएगी। इस वक्त पूरी दुनिया में कोरोना वायरस के संक्रमण की वजह से क्रिरके की गतिविधि बंद है।

क्रिकेट दक्षिण अफ्रीका (सीएसए) के मुख्य कार्यकारी अधिकारी जैक्स फॉल ने कहा है खिलाड़ियों को चिंता करने की जरूरत नहीं है। कोरोनावायरस की वजह से खेल में लगे विराम के बाद भी सभी खिलाड़ियों के इस नए सीजन 2020-21 के सैलरी में किसी तरह की कटौती नहीं की जाएगी। आगे फॉल ने यह बात भी कहा इस वक्त तो नहीं लेकिन भविष्य में दी जाने वाली सैलरी के बारे में बोर्ड को सोचना पड़ेगा।

सीएसए के मुख्य कार्यकारी अधिकारी फॉल ने कहा, फिलहाल तो हमारे पास बजट के हिसाब का पैसा है। यह केंद्रीयकरण तंत्र है का हिस्सा है और इसमें नेशनल टीम के तथा फ्रेंचाइजियों के लिए खिलाड़ियों के लिए बजट है। इस पूरे सीजन के हिसाब से तो हमारे पास काफी पैसे हैं। लेकिन लंबे वक्त के लिए अगर हम इस सीजन को कवर कर भी लें तो भी इस स्थिति के बाद हमें यह देखना होगा कि हालात का हमारी आर्थिक स्थिति पर क्या प्रभाव पड़ता है।

जहां तक हमारी मौजूदा स्थिति को देखें तो मुझे नहीं लगता इस सीजन में किसी भी खिलाड़ी को कम पैसे मिलने वाले हैं। हां आगे के हालात पर विचार करें तो हो सकता है आने वाले वक्त में खिलाड़ियों को कम पैसे मिले।

भारत और साउथ अफ्रीका के बीच खेली जाने वाली तीन मैचों की वनडे सीरीज को कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए स्थगित करना पड़ा था। धर्मशाला में खेला जाने वाला पहला मैच बारिश की वजह से नहीं खेला जा सका था जबकि बाकी के दोनों मुकाबलों को बीसीसीआई और क्रिकेट साउथ अफ्रीका ने साथ मिलकर स्थगित करने का फैसला लिया था।

 

Posted By: Viplove Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस