नई दिल्ली, जेएनएन। अपनी खौफनाक गेंदबाजी की वजह से विरोधी बल्लेबाजों के बीच व्हिस्परिंग डेथ (मौत की आहट) के नाम से पहचाने जाने वाले वेस्टइंडीज के दिग्गज तेज गेंदबाज माइकल होल्डिंग ने बुधवार को क्रिकेट के खेल में अपनी दूसरी पारी की समाप्ति की घोषणा कर दी। साल 1987 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद क्रिकेट कमेंट्री में अपना लोहा मनवाने वाले होल्डिंग का कमेंटेटर के रूप में यह आखिरी साल होगा।

होल्डिंग पिछले 20 वर्षो से स्काई स्पो‌र्ट्स के साथ बतौर कमेंटेटर जुड़े हुए थे। वह क्रिकेट में सबसे ज्यादा सुनी जाने वाली आवाजों में से एक थे। उन्होंने पिछले साल से ही पेशेवर कमेंट्री छोड़ने के संकेत दिए थे। 67 साल के होल्डिंग ने बढ़ती उम्र और क्रिकेट के बढ़ते व्यस्त कार्यक्रम के चलते कमेंट्री को अलविदा कहने का फैसला किया।

आम धारणा के बारे में ज्यादा नहीं सोचता :

वेस्टइंडीज के लिए 60 टेस्ट और 102 वनडे मैचों में कुल 391 अंतरराष्ट्रीय विकेट लेने वाले होल्डिंग ने कहा कि जब वह अपने करियर पर गौर करते हैं तो खुद को बहुत भाग्यशाली मानते हैं। उन्होंने कहा, 'कैरेबियन में मुझे पक्षपात करने वाले कहा जाता था। ऐसा कहा जाता था कि यह त्रिनिदाद को पसंद नहीं करता, यह एंटिगा के लोगों को पसंद नहीं करता, गयाना के लोगों को भी यह पसंद नहीं करता।.. कुछ समय बाद, मैं कुछ भी कहता था तो ये लोग पसंद नहीं करते थे, लेकिन अब मैं जो भी कहता हूं उसकी इज्जत करते हैं। इसलिए मैं आम धारणा के बारे में ज्यादा नहीं सोचता।'

पिछले साल दिया था संकेत :

पिछले साल कोरोना महामारी के कारण जब तमाम क्रिकेट गतिविधियां ठप पड़ गई थीं तो होल्डिंग ने एक रेडियो शो पर अपनी कमेंट्री छोड़ने के संकेत देते हुए कहा था, 'मुझे नहीं पता कि साल 2020 के बाद मैं कितनी कमेंट्री करूंगा। मैं खुद को इसमें ज्यादा दूर तक जाता नहीं देखता। मैं 66 साल का हूं, मैं 36, 46 या 56 साल का नहीं हूं। मैंने स्काई से कहा था कि मैं एक बार में एक साल से ज्यादा का कमिटमेंट (प्रतिबद्धता) नहीं दे सकता। अगर यह साल पूरी तरह से बर्बाद होता है तो मैं 2021 के बारे में सोच सकता हूं, क्योंकि मैं बस ऐसे ही स्काई से नहीं भाग सकता, इस कंपनी ने मेरे लिए बहुत कुछ किया है।'

आइपीएल क्रिकेट नहीं है :

कमेंटेटर के रूप में होल्डिंग को स्पष्ट और तीखी टिप्पणी करने के लिए जाना जाता था। 1979 वनडे विश्व कप विजेता वेस्टइंडीज टीम के सदस्य रहे होल्डिंग ने टी-20 क्रिकेट और आइपीएल को लेकर एक बार विवादास्पद बयान दिया था। उन्होंने कहा था। जब उनसे पूछा गया कि आप आइपीएल में कमेंट्री क्यों नहीं करते, तो उन्होंने कहा था, 'मैं सिर्फ क्रिकेट की कमेंट्री करता हूं। आइपीएल क्रिकेट नहीं है।'

इसी तरह जब उनसे 2016 में दूसरी बार टी-20 विश्व कप जीतने के बाद वेस्टइंडीज में क्रिकेट के पुनरुद्धार के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा था, 'जब आप एक टी-20 टूर्नामेंट जीतते हैं तो वह पुनरुद्धार नहीं होता। यह क्रिकेट भी नहीं है। वेस्टइंडीज के लिए इस टी-20 के कारण टेस्ट क्रिकेट में शीर्ष पर पहुंचना बहुत मुश्किल होगा।'

पिछले साल वेस्टइंडीज के इंग्लैंड दौरे के दौरान स्काई स्पो‌र्ट्स पर एक प्रसारण के दौरान नस्लवाद के खिलाफ होल्डिंग के भावुक भाषण की काफी सराहना की गई थी। उन्होंने अश्वेत जार्ज फ्लायड की मौत के बाद जातिवाद के खिलाफ आवाज उठाई थी, जिसकी वजह से दुनियाभर में उनकी खूब तारीफ हुई थी।

 

Edited By: Viplove Kumar