राज्य ब्यूरो, नई दिल्ली। आइपीएल सट्टेबाजी मामले की जांच करने वाली समिति के अध्यक्ष न्यायमूर्ति मुकुल मुद्गल ने मंगलवार को कहा कि चेन्नई सुपरकिंग्स और राजस्थान रायॅल्स का निलंबन आइपीएल के लिए अस्थायी झटका है और लोढ़ा समिति का फैसला वास्तव में इस लीग में लोगों भरोसा बहाल करने में मदद करेगा।

मुदगल ने कहा, 'यह बहुत कड़ी सजा है। मेरा मानना है कि इसका आइपीएल, बीसीसीआइ और खिलाडि़यों पर अच्छा प्रभाव पड़ेगा। कई लोगों का मानना है कि इससे खेल पर विपरीत प्रभाव पड़ेगा, लेकिन मेरा कहना है कि यह अस्थायी झटका है तथा क्रिकेट साफ सुथरा होगा और आइपीएल में लोगों का विश्वास बहाल होगा।'

क्रिकेट की अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें

बीसीसीआइ के पूर्व सचिव निरंजन शाह ने कहा कि यदि बोर्ड ने पूर्व में उचित कार्रवाई की होती तो इस स्थिति से बचा जा सकता था। उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि बीसीसीआइ को जो भी कार्रवाई करनी थी वह की। हालांकि प्रक्रिया धीमी थी। उन्होंने अनुमान नहीं लगाया था कि यह मामला सुप्रीम कोर्ट में चला जाएगा। हम शुरू में इससे बच सकते थे। हमें सबक लेना होगा।

खेल जगत की अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Ind-vs-End

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप