नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। आज टीम इंडिया के उस पूर्व क्रिकेटर का जन्मदिन है, जिसे संन्यास के बाद कप्तान सौरव गांगुली ने वापस बुलाया और उसने 2003 विश्व कप में शानदार प्रदर्शन किया। ये क्रिकेटर कोई और नहीं बल्कि तेज गेंदबाज जवागल श्रीनाथ हैं। उन्होंने साल  2002 में क्रिकेट से संन्यास ले लिया था, लेकिन तब टीम के कप्तान गांगुली चाहते थे कि दाएं हाथ का यह तेज गेंदबाज वर्ल्ड कप खेले। कप्तान के कहने पर श्रीनाथ ने ऐसा किया और अपने प्रदर्शन से साबित किया कि गांगुली उन्हें क्यों खिलाना चाहते थे। विश्व कप में उन्होंने 23.06 की औसत से 16 विकेट चटकाए और उनका इकोनमी रेट 4.04 का रहा था। वह इस टर्नामेंट में भारत के लिए सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज रहे।

मैसूर एक्सप्रेस के नाम से मशहूर श्रीनाथ आज 52 साल के हो गए हैं। वह आज ही के दिन 1969 में कर्नाटक के मैसूर जिले में पैदा हुए थे। क्रिकेट में अधिक रुचि होने के बावजूद उन्होंने इंजीनियरिंग की। उनके पास इंस्ट्रूमेंटेशन में बैचलर आफ इंजीनियरिंग की डिग्री है। श्रीनाथ के नाम हारे हुए टेस्ट मैच में सर्वाधिक विकेट लेने का विश्व रिकार्ड है। 1999 में पाकिस्तान के खिलाफ उन्होंने 13 विकेट लिए थे, लेकिन भारत ईडन गार्डन्स में खेला गया यह टेस्ट मैच हार गया था।

जवागल श्रीनाथ ने एक गेंदबाज के रूप में भारत के लिए सबसे अधिक विश्व कप 1992, 1996, 1999 और 2003 में खेले हैं। उन्होंने पांच विश्व कप में 44 विकेट लिए हैं। वह वनडे में भारत के लिए दूसरे सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज हैं। उन्होंने 229 एकदिवसीय मैचों में 315 विकेट लिए हैं और वह केवल अनिल कुंबले 337 विकेट से पीछे हैं।

श्रीनाथ ने 1991 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण किया और 1992 में टेस्ट में 16 विकेट और वनडे में 20 विकेट लेकर इंडियन क्रिकेटर आफ द ईयर बने।  उन्होंने 1989-90 में हैदराबाद के खिलाफ कर्नाटक के लिए प्रथम श्रेणी मैच में डेब्यू किा और पहली पारी में हैट्रिक ली। उन्होंने उस पारी में पांच विकेट लिए।

जवागल श्रीनाथ ने अपने करियर में 67 टेस्ट मैच खेले, जिसमें उन्होंने 236 विकेट लिए। 229 वनडे में श्रीनाथ ने 315 विकेट चटकाए। उन्होंने 147 प्रथम श्रेणी मैचों में 533 विकेट लिए और 290 लिस्ट-ए मैचों में 407 विकेट हासिल किए। संन्यास लेने के बाद भी वह क्रिकेट से जुड़े रहे और मैच रेफरी बनगए।

Edited By: Tanisk