मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

कोलकाता,प्रेट्र। वेस्टइंडीज क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान कार्ल हूपर ने कहा कि ये बेहद शर्मनाक है कि कैरेबियन टीम के टॉप के खिलाड़ी अपने देश के लिए खेलने में कोई दिलचस्पी नहीं दिखा रहे हैं। टी 20 विश्व चैंपियन वेस्टइंडीज इस वक्त भारतीय दौरे पर है और टीम में स्टार खिलाड़ी जैसे कि क्रिस गेल, आंद्रे रसेल और सुनील नरेन मौजूद नहीं हैं।

मेहमान टीम को पहले ही टी 20 मैच में भारत के खिलाफ पांच विकेट से हार का सामना करना पड़ा था। ये खिलाड़ी या तो टीम के लिए इंजरी की वजह से या फिर अपने व्यक्तिगत कारणों की वजह से नहीं खेल रहे हैं। इस सबके पीछे खिलाड़ियों का बोर्ड के साथ विवाद मुख्य वजह है। हूपर ने कहा कि ये साफ है कि इन खिलाड़ियों को वेस्टइंडीज के लिए खेलने में कोई दिलचस्पी नहीं है। 

कार्लोस ब्रेथवेट की कप्तानी में पहले टी 20 मैंच में इंडीज की तरफ से तीन खिलाड़ियों ने डेब्यू किया। इनमें फेबियन एलेन भी थे जिन्होंने पिछले मैच में अपनी टीम के लिए सबसे ज्यादा 20 गेंदों पर 27 रन बनाए। टीम की बल्लेबाजी बेहद खराब रही थी और पूरी टीम 20 ओवर में आठ विकेट पर 109 रन ही बना पाई। कार्ल हूपर ने कहा कि अगर टीम में सीनियर खिलाड़ी खेल रहे होते तो भारत के लिए ये मैच जीतना आसान नहीं होता। इस वक्त इंडीज की टीम काफी युवा है और इन्हें वक्त चाहिए।

इंडीज का प्रदर्शन इस वर्ष टी 20 में काफी खराब रहा है और आठ मैचों में से उसे सिर्फ दो में ही जीत मिली है। जुलाई-अगस्त में वेस्टइंडीज को बांग्लादेश के हाथों 1-2 से हार का सामना करना पड़ा। इससे पहले पाकिस्तान के खिलाफ उसे 0-3 से हार झेलनी पड़ी। हूपर ने कहा कि टीम को निरंतरता दिखानी चाहिए। कभी हम अच्छा खेलते हैं तो कभी हम परिस्थिति के मुताबिक नहीं खेल पाते। हमारे पास टैलेंटेड खिलाड़ियों की कोई कमी नहीं है लेकिन उन्हें अच्छी तरह से तराशे जाने की जरूरत है। क्रिकेट वेस्टइंडीज के खिलाड़ियों के लिए बेहतरीन रणनीति बनाने की जरूरत है। 

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें


 

Posted By: Sanjay Savern

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप