मेलबर्न, प्रेट्र। ऑस्ट्रेलिया के कोच जस्टिन लैंगर ने कहा कि 2022 में भारत दौरे पर खेली जानी वाली टेस्ट सीरीज के लिए ऑस्ट्रेलिया मजबूत और परिपक्व टीम तैयार कर रहा है। पिछले साल गेंद से छेड़छाड़ विवाद के बाद मई में टीम के कोच बने लैंगर ने खेल के सबसे लंबे प्रारूप में घरेलू परिस्थितियों में भारतीय दबदबे को करीब से देखा है। अब लैंगर का सपना ऐसी टीम तैयार करने का है, जो विश्व रैंकिंग में शीर्ष पर काबिज भारत को चुनौती दे सके।

कोहली की टीम ने पिछले महीने दक्षिण अफ्रीका को टेस्ट सीरीज में शिकस्त देकर घरेलू सरजमीं पर लगातार 11वीं सीरीज अपने नाम की। लैंगर ने कहा कि इससे (भारतीय प्रदर्शन) यह पता चलता है कि भारत को हराना कितना मुश्किल है। ऑस्ट्रेलिया एशेज की तर्ज पर टीम इंडिया से अपने घर पर मिली हार का बदला लेना चाहती है। एशेज सीरीज में एक हार के बाद चिर प्रतिद्वंद्वी ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड अगली सीरीज में विरोधी टीम को जबरदस्त ढंग से पटकनी देने का प्लान करते दिखती हैं। उन्होंने कहा कि भारत में जीतना हमेशा मुश्किल रहता है। हमें उम्मीद है कि हम ऐसा कर सकते है। इसके लिए परिपक्व होने के लिए हमारे पास दो साल का समय है। मैं मजबूती से उस सीरीज के लिए तैयार होना चहता हूं।

लैंगर जब टीम के कोच बने थे, तभी उन्होंने कहा था कि उनका लक्ष्य भारत को भारत में हराना है। उन्होंने कहा कि हम तीन-चार साल में एक बार भारत का दौरा (टेस्ट सीरीज के लिए) करते हैं। मेरे लिए इतना समय काफी है। अगर हम भारत को भारत में हराने में सफल रहे तो मैं इस टीम को महान टीमों में से एक मानूंगा।

लैंगर के कोच बनने के बाद ऑस्ट्रेलिया को भारत से हार का सामना करना पड़ा, जबकि उसने श्रीलंका को हराया। टीम एशेज सीरीज ड्रॉ करा कर खिताब अपने पास रखने में सफल रही। उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि यह हमारी टीम की परिपक्वता का संकेत था। मैं उम्र में परिपक्वता की बात नहीं कर रहा हूं लेकिन एक समूह के तौर पर साथ आने में परिपक्वता की बात कर रहा हूं। इसके लिए कौशल और समय की जरूरत होती है। बार-बार वापसी करने के लिए मानसिक मजबूती और धैर्य की जरूरत होगी।

Posted By: Sanjay Savern

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप