नई दिल्ली, प्रेट्र। आस्ट्रेलिया के स्टार बल्लेबाज डेविड वार्नर ने मंगलवार को दावा किया कि सनराइजर्स हैदराबाद प्रबंधन ने आइपीएल के इस सत्र में उन्हें कप्तानी से हटाने का कोई कारण नहीं बताया। इस बार टीम की कप्तानी केन विलियमसन ने की और उनकी अगुआई में सनराइजर्स हैदराबाद का प्रदर्शन काफी खराब रहा और ये टीम इस सीजन में अंकतालिका में सबसे आखिरी पायदान पर रही। 

डेविड वार्नर को आइपीएल के पहले चरण में कप्तानी से हटाकर न्यूजीलैंड के केन विलियमसन को सनराइजर्स की कमान सौंपी गई थी। कप्तानी बदलने के बावजूद सनराइजर्स के प्रदर्शन में सुधार नहीं आया और टीम आइपीएल अंकतालिका में सबसे नीचे रही। वार्नर को आखिरी कुछ मैचों में तो टीम में जगह भी नहीं दी गई। डेविड वार्नर ने कहा, 'टीम मालिकों, ट्रेवर बेलिस, लक्ष्मण, मूडी और मुरली के प्रति पूरा सम्मान रखते हुए मैं कहूंगा कि कोई भी फैसला सर्वसम्मति से होता है। मेरे लिए निराशाजनक बात यह भी रही कि मुझे बताया ही नहीं गया कि कप्तानी से क्यों हटाया गया है। फार्म के आधार पर फैसला लिया गया तो यह कठिन है, क्योंकि अतीत के प्रदर्शन को अनदेखा नहीं करना चाहिए था।'

उन्होंने कहा कि कप्तानी से हटाए जाने को पचाना मुश्किल था, लेकिन वह आगे बढ़ना चाहते थे। उन्होंने कहा, 'खास तौर पर जब आपने टीम के लिए 100 मैच खेले हों। मुझे लगता है कि चेन्नई में पहले पांच में से चार मैचों में खराब प्रदर्शन रहा। मेरे कुछ सवाल हैं, लेकिन लगता है कि जवाब कभी नहीं मिलेगा। आगे बढ़ना ही होगा।'  डेविड वार्नर ने कहा कि वह आगे भी सनराइजर्स हैदराबाद के लिए खेलना चाहेंगे, लेकिन यह उनके हाथ में नहीं है। उन्होंने कहा, 'मुझे सनराइजर्स हैदराबाद के लिए खेलने में मजा आया। उम्मीद है कि मैं वापस आऊंगा। सनराइजर्स की जर्सी में या किसी और टीम की, पता नहीं।'

Edited By: Sanjay Savern