नई दिल्ली, जेएनएन। जीरो से हीरो बनने तक के सफर में संघर्ष की बड़ी कहानी होती है, लेकिन क्रिकेट में यह एक दिन नहीं बल्कि कुछ ही घंटों में किया जा सकता है। इसका उदाहरण रविवार को शारजाह में आइपीएल मैच में राजस्थान रॉयल्स के राहुल तेवतिया (53) ने पेश किया। रॉयल्स के हाथ से निकले मैच की वजह बन रहे तेवतिया ने एक ओवर में पांच छक्के जड़कर अपनी टीम को लगभग हारे हुए मैच में चार विकेट से जीत दिलाते हुए आइपीएल इतिहास का सबसे बड़ा लक्ष्य हासिल किया। पूर्व क्रिकेटर युवराज सिंह और वीरेंद्र सहवाग ने उनके इस पारी पर प्रतिक्रिया दी है।

युवराज ने तेवतिया की पारी पर ट्वीट करके कहा कि मिस्टर राहुल तेवतिया ना भाई ना। एक गेंद छोड़ने के लिए धन्यवाद! क्या मैच था। शानदार जीत के लिए आरआर को बधाई। साथ ही उन्होंने मंयक अग्रवाल और संजू सैमसन की तारीफ की।

बता दें कि टी-20 इंटरनेशनल क्रिकेट में एक ओवर में छह छक्के लगाने का रिकॉर्ड युवराज के नाम है। उन्होंने 2007 टी 20 वर्ल्ड कप में इंग्लैंड के खिलाफ यह करनामा किया था। उन्होंने इस दौरान तेज गेंदबाज स्टुअर्ट ब्राड की एक ओवर में लगातार छह छक्के लगाए थे। वहीं वीरेंद्र सहवाग ने ट्वीट करके कहा कि तेवतिया में माता आ गई। क्रिकेट और जिंदगी मिनटों में बदल जाते हैं। 

 

तेवतिया शुरुआती 19 गेंद में वह सिर्फ आठ रन ही बना सके थे

पंजाब के खिलाफ इस मैच में तेवतिया शुरुआती 19 गेंद में सिर्फ आठ रन ही बना सके थे। इससे सैमसन पर दबाव बढ़ा और वह 42 गेंदों (सात छक्के) की खूबसूरत पारी खेलकर पवेलियन लौट गए। आखिर के 18 गेंद पर 51 रन चाहिए थे और राहुल ने शेल्डन कॉटरेल की गेंदों पर एक ओवर में पांच छक्के लगा दिए। तेवतिया ने 18वें ओवर में लगातार चार गेंदों में चार छक्के लगाए। ऐसा लग रहा था कि वे छह गेंदों पर छह छक्के जड़ देंगे, लेकिन पांचवीं गेंद पर ऐसा करने से चूक गए। हालांकि, अगले ही गेंद पर उन्होंने फिर से छक्का जड़ दिया।

यह भी देखें: संजू सैमसन-राहुल तेवतिया का तूफान, IPL का सबसे बड़ा Chase 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस