दुबई, एएनआइ। IPL 2020 का दूसरा मैच किंग्स इलेवन पंजाब और दिल्ली कैपिटल्स के बीच खेला गया था। इस मैच में एक गलत अंपायरिंग की वजह से किंग्स इलेवन पंजाब को हार झेलनी पड़ी, क्योंकि अंपायर ने शॉर्ट रन दे दिया था, जिसकी वजह से मैच टाई हो गया और फिर सुपर ओवर में पंजाब को हार मिली। इसी विवाद के बाद KXIP के सहमालिक नेस वाडिया ने भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड यानी बीसीसीआइ से एक अपील की है। वाडिया ने कहा है कि बीसीसीआइ को आइपीएल में बेहतर अंपायरिंग के साथ-साथ तकनीक का ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल करने पर गौर करना चाहिए।

नेस वाडिया का यह बयान रविवार को दिल्ली और पंजाब के बीच हुए मैच में अंपायर के एक गलत फैसले के बाद आया है, जिसके कारण पंजाब को मैच गंवाना पड़ा। इससे पहले फ्रेंचाइजी के सीईओ ने भी यही कहा था कि आपको ये एक रन क्वालीफायर्स से बाहर करा सकता है। पंजाब की टीम ने इस मामले में शिकायत भी की है। गौरतलब है कि लक्ष्य की पीछा कर रही पंजाब की पारी के 19वें ओवर के दौरान मयंक अग्रवाल और क्रिस जॉर्डन ने दो रन दौड़े थे, लेकिन अंपायर ने एक रन शॉर्ट रन करार दिया था, लेकिन रिप्ले में जॉर्डन का बल्ला क्रीज के पार था। इस तरह ये रन शॉर्ट नहीं था।

किंग्स इलेवन पंजाब की टीम के सह मालिक नेस वाडिया ने एक बयान में कहा है, "मैं बीसीसीआइ से अपील करता हूं कि वह अच्छी अंपायरिंग सुनिश्चित करे और तकनीक का ज्यादा से ज्यादा उपयोग करे, ताकि जो लीग दुनिया की सबसे अच्छी लीग मानी जाती है उसमें ईमानदारी और पारदर्शिता आ सके।" वाडिया ने लिखा, "मुझे लगता है कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि KXIP को खराब अंपायरिंग के कारण मैच गंवाना पड़ा। मैं उम्मीद करता हूं कि बीसीसीआइ एक ऐसा सिस्टम और प्रक्रिया लागू करे कि जो पंजाब टीम ने झेला है वो किसी और टीम के साथ न हो।"

उन्होंने आगे कहा, "अगर तकनीक है तो इसे खेल को साफ और पारदर्शी बनाए जाने के लिए उपयोग में लिया जाना चाहिए।" आपको बता दें, मैच के ठीक बाद अंपायर के इस फैसले पर पंजाब की सह-मालिक प्रीति जिंटा भी ट्विटर के माध्यम से अपनी नाराजगी व्यक्त कर चुकी हैं। उन्होंने लिखा था कि वे यहां 6 दिन क्वारंटाइन में रहीं, 5 कोरोना टेस्ट कराए, लेकिन पहले ही मैच में उनको ये सब देखने को मिला है।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस