लंदन, पीटीआइ। ओलिंपिक खेलों में कई पदक जीत चुकीं अमेरिकी जिम्नास्ट सिमोन बाइल्स ने मानसिक स्वास्थ्य कारणों का हवाला देकर टोक्यो ओलिंपिक खेलों से हटने का फैसला किया है। सिमोन बाइल्स के खेलों से हटने पर भारतीय क्रिकेट टीम के मुख्य कोच रवि शास्त्री ने भी अपनी प्रतिक्रिया दी है और उनके फैसले का समर्थन करते हुए कहा कि उन्हें किसी को सफाई देने की जरूरत नहीं है।

सर्वकालिक महान जिम्नास्ट में शुमार बाइल्स ने मंगलवार को महिला टीम फाइनल से नाम वापस ले लिया। शास्त्री ने ट्वीट किया, "अपना समय लो सिमोन बाइल्स। इस कम उम्र में आपने यह अधिकार अर्जित किया है। 48 घंटे लगे या 48 दिन, आपको किसी को सफाई देने की जरूरत नहीं है। नाओमी ओसाका, आप भी। भगवान आपका भला करे।"

इंग्लैंड के खिलाफ अगले महीने होने वाली टेस्ट सीरीज की तैयारी के लिए भारतीय टीम के साथ इंग्लैंड में मौजूद रवि शास्त्री ने जापान की स्टार टेनिस खिलाड़ी नाओमी ओसाका का भी जिक्र किया, जिन्होंने ओलिंपिक के तीसरे दौर से बाहर होने का कारण मानसिक थकान बताया था। नाओमी ओसाका अपने फैसलों को लेकर पहले भी सुर्खियों में रही हैं, जब ग्रैंड स्लैम टूर्नामेंट के दौरान उन्होंने मीडिया के लोगों से दूरी बनाने का फैसला किया था।

चीन की बटरफ्लाई क्वीन ने एक दिन में जीते दो स्वर्ण

चीन की दमदार तैराक व बटरफ्लाई क्वीन के नाम से मशहूर झांग युफेई ने एक दिन में दो स्वर्ण पदक अपने नाम करके सभी को चौंका दिया। झांग ने पहले 200 मीटर बटरफ्लाई स्पर्धा में ओलिंपिक रिकार्ड बनाते हुए स्वर्ण पदक अपने नाम किया। उसके कुछ ही समय बाद चार गुणा 200 मीटर रिले फ्रीस्टाइल स्पर्धा में उतरकर भी झांग ने अपनी टीम को एक और स्वर्ण पदक जिताया। इस स्पर्धा में रजत पदक अमेरिकी टीम और कांस्य पदक मजबूत मानी जाने वाली आस्ट्रेलिया के नाम रहा। 200 मीटर की स्पर्धा में झांग के बाद अमेरिकी रेगन स्मिथ (2: 05.30 मिनट) ने रजत पदक तो चीन की ही उनकी साथी हाली फ्लिकिंगर (2:06.65 मिनट) ने कांस्य पदक जीता। ।

Edited By: Vikash Gaur