नई दिल्ली, जेएनएन। नॉटिंघम में तीसरा टेस्ट मैच शुरू होने से पहले भारतीय क्रिकेट टीम के कोच रवि शास्त्री ने स्वीकार किया कि लॉर्ड्स टेस्ट मैच में दो स्पिनर्स के साथ मैदान पर उतरना एक बड़ी गलती थी। भारत ने दूसरा टेस्ट मैच पारी व 159 रन से गवां दिया था। 

दूसरे यानी लॉर्ड्स टेस्ट मैच में भारतीय टीम ने तीन तेज गेंदबाज और दो स्पिनर कुलदीप यादव व अश्विन को अंतिम ग्यारह में मौका दिया था। तेज गेंदबाज के तौर पर टीम में शमी, इशांत शर्मा व हार्दिक पांड्या मौजूद थे। भारत की ये चाल कामयाब नहीं रही थी। कुलदीप को इस टेस्ट में कोई भी विकेट नहीं मिला। इंग्लैंड के तेज गेंदबाजों ने इस मैच में कमाल की गेंदबाजी की थी जबकि हार्दिक पांड्या ने तीन विकेट चटकाए थे। शास्त्री ने तीसरे टेस्ट से पहले कहा कि कुलदीप की जगह एक अन्य तेज गेंदबाज का ऑप्शन ज्यादा बेहतर था। लॉर्ड्स में जैसा कंडीशन था उसके हिसाब से टीम में एक अन्य तेज गेंदबाज को शामिल करना ज्यादा अच्छा होता। हमें पता नहीं था कि बारिश होने वाली है। जिस तरह ये इस मैच में चीजें बदली और जैसी बारिश हुई साथ ही हमारा वक्त भी बर्बाद हुआ। ऐसी परिस्थिति में एक तेज गेंदबाज ज्यादा अच्छा ऑप्शन था। 

अजिंक्य रहाणे के बारे में शास्त्री ने कहा कि उनकी बुराई करना सही नहीं है क्योंकि टीम के ज्यादातर बल्लेबाजों ने अच्छा प्रदर्शन नहीं किया। शास्त्री ने कहा कि किसी एक बल्लेबाज को टारगेट किया जाना अच्छा नहीं है। दोनों टीमों के बल्लेबाजों ने मैच में संघर्ष किया। रहाणे हमारी टीम का अहम हिस्सा हैं और रहेंगे। शास्त्री ने कहा कि खिलाड़ियों को मौका दिया जाएगा कि वो खुद को साबित कर सकें लेकिन उन्होंने रिषभ पंत टीम में शामिल होंगे या नहीं इसके बारे में कोई भी बात नहीं कही। जब पंत के बारे में शास्त्री से पूछा गया तो उन्होंने कुछ कहा नहीं और बात को घुमाते हुए विराट के बारे में बताने लगे कि वि अब पहले से अच्छा महसूस कर रहे हैं और दिन ब दिन उनके स्वास्थ्य में सुधार हो रहा है। रिषभ के बारे में रवि ने कहा कि आप उनके बारे में टेस्ट वाले दिन जान जाएंगे। 

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Sanjay Savern

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप