नई दिल्ली, जेएनएन। वेस्टइंडीज की टीम भारत के खिलाफ पहले टेस्ट सीरीज और फिर वनडे सीरीज में कुछ खास नहीं कर पाई और उन्हें दोनों सीरीज गवांनी पड़ी। टी 20 सीरीज की शुरुआत भी इंडीज के लिए अच्छा नहीं रहा और पहले मैच में उसे हार मिली। हालांकि इस मैच में मेहमान टीम के युवा तेज गेंदबाज ओशाने थॉमस ने कैरेबियाई टीम के पुराने पेस अटैक की याद तो जरूर दिला दी। 

थॉमस ने अपने चार ओवर में ही भारतीय बल्लेबाजों को परेशानी में डाल दिया था। वो जिस अंदाज में पेस और बाउंस डाल रहे थे उससे भारतीय बल्लेबाज साफ तौर पर मुश्किल में नजर आ रहे थे। थॉमस के अलावा टीम के कप्तान जेसन होल्डर ने भी गेंदबाजी में अपने कद का पूरा फायदा उठाया और गेंद को सही लेंथ पर रखा। उनकी सधी हुई गेंदबाजी से भी भारतीय बल्लेबाज बैकफुट पर नजर आए। पहले मैच के दौरान भारतीय बल्लेबाज शॉट गेंदों को खेलते हुए काफी असहज दिख रहे थे ठीक उतना ही जितना की दुनिया के और भी बल्लेबाज होते हैं। जब से क्रिकेट में एक ओवर में एक ही बाउंसर और हेल्मेट का इस्तेमाल होनो लगा है तब से बल्लेबाज बैकफुट पर खेलना भूल गए हैं। भारतीय बल्लेबाज भी बैकफुट पर नहीं खेल पा रहे थे। 

पहले टी 20 मैच में भारत के लिए राहत की बात ये रही कि थॉमस का साथ देने वाला अन्य कोई उस स्तर का तेज गेंदबाज नहीं था वरना मैच का परिणाम कुछ और होता। थॉमस ने भी चार ओवर गेंदबाजी की लेकिन अपने इस स्पेल में ही उन्होंने भारतीय टीम के बल्लेबाजों को खासा परेशान कर दिया। थॉमस के अलावा कुछ गेंदबाजों ने अच्छी गेंदबाजी जरूर की लेकिन वो विकेट नहीं निकाल पाए और टीम के लोअर मध्यक्रम के बल्लेबाजों ने भारत को आसान जीत दिला दी। इसमें कोई शक नहीं कि मेहमान टीम को थॉमस के तौर पर एक ऐसा गेंदबाज मिला है जिसकी तलाश शायद उन्हें वर्षों से है। शैनन गैब्रियल भी अच्छे गेंदबाज हैं लेकिन उन्हें अपनी लाइन लेंथ पर अभी थोड़ा काम करना होगा। थॉमस को फिलहाल तो कोई जबाव नहीं है जिन्होंने भारतीय बल्लेबाजों को लेदर का स्मेल सूंघने पर मजबूर किया। हालांकि वनडे क्रिकेट में थॉमस का पदार्पण अच्छा नहीं रहा था और उनकी जमकर पिटाई हुई थी। 

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Sanjay Savern