नई दिल्ली, जेएनएन। भारतीय टीम की तरफ ब्रिसबेन में वॉशिंग्टन सुंदर को टेस्ट डेब्यू करने का मौका दिया गया। कुलदीप यादव टीम में अनुभवी स्पिनर होने के बाद भी चौथे मैच के लिए प्लेइंग इलेवन में जगह नहीं बना पाए। कमेंट्री के दौरान पूर्व भारतीय स्पिनर मुरली कार्तिक ने इसे कुलदीप के आत्मविश्वास की धज्जियां उड़ाने वाला बताया। पूर्व भारतीय बल्लेबाज मोहम्मद कैफ और संजय मांजरेकर ने भी कुलदीप को मौका नहीं दिए जाने पर निराशा जताई। 

कमेंट्री के दौरान मुरली ने कहा, यह किसी भी गेंदबाज के लिए दिल दुखाने वाला होता है कि अनुभव होने के बाद भी उनको सीरीज में खेलने का मौका ना मिले। कुलदीप यादव ऑस्ट्रेलिया तीसरे स्पिनर के तौर पर आए थे लेकिन उनसे पहले वॉशिंग्टन सुंदर को खेलने का मौका दिया गया। यह इस स्पिनर के लिए आत्मविश्वास तोड़ने वाले है। जडेजा और अश्विन के नहीं होने के बाद उनको लगा होगा कि वह मैच खेलेंगे लेकिन ऐसा नहीं हुआ। ऐसा में उनके आत्मविश्वास की धज्जियां उड़ गई होगी।

मुरली ने आगे कहा, यह किसी खास के खिलाफ नहीं है ना ही टीम मैनेजमेंट के लिए बल्कि उस खिलाड़ी के लिए खराब लगता है जो मैच खेलने का हकदार है। अगर सीरीज में आपके पीछे से कोई गेंदबाज आगे आकर खेल जाए और अनुभव के बाद भी आप मौका नहीं पाए तो यकीनन बहुत ही खराब लगता है।

मोहम्मद कैफ ने कहा, यह एक गेंदबाज के लिए हौसला तोड़ने वाला होता है क्योंकि वह सीरीज में एक भी मैच नहीं खेल पाए। आप देख सकते हैं वो जब कोलकाता नाइट राइडर्स के अपने साथी ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी से बात कर रहे हैं तो चेहरे पर कैसी मायूसी है। यह साफ नजर आ रहा है कि वह कितने ज्यादा निराश हैं।

संजय मांजरेकर ने कहा, आप देख सकते हैं कि कुलदीप यादव के पहले वॉशिंग्टन सुंदर को मौका दिया गया है यह उनके लिए निराश करने वाली बात है। जब एक बाहर बैठा खिलाड़ी पीछे से आकर मैच खेल जाए तो थोड़ी अजीब लगता है। वैसे सुंदर को मौका इसलिए नहीं दिया गया है क्योंकि वह स्पिनर ज्यादा अच्छी करते हैं बल्कि वह कुलदीप से मुकाबले ज्यादा अच्छे बल्लेबाज हैं। भारतीय टीम एडिलेड में महज 36 रन पर सिमट गई थी और यह बात उनको हमेशा ही डराती होगी।

 

Ind-vs-End

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप