नई दिल्ली, जेएनएन। भारतीय क्रिकेट टीम ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सिडनी टेस्ट की दूसरी पारी में 131 ओवर तक बल्लेबाजी कर मैच ड्रॉ कराया। आखिरी दिन रिषभ पंत ने आतिशी 97 रन की पारी खेली और मैच का रुख मोड़ दिया था। पंत के बल्लेबाजी करते समय लग रहा था भारत आसानी से मैच जीत जाएगा लेकिन वह आउट हो गए। पूर्व भारतीय ओपनर गौतम गंभीर ने पंत की पारी की तारीफ की और उनके आउट होने पर बचाव किया।

रिषभ पंत ने वाकई बहुत अच्छी बल्लेबाजी की। उन्होंने वैसे ही बल्लेबाजी की जैसी उनकी करनी चाहिए थी और उन्होंने अपनी ताकत पर भरोसा किया। वह तलवार की धार पर चल रहे थे और आपकी जान जानी ही है। हां, लोग यह बात जरूर कहेंगे कि उनको उस समय ऐसा शॉट नहीं खेलना चाहिए था लेकिन वो खेलेते गए और भारत को मैच में बनाए रखा। अगर उन्होंने कुछ देर और बल्लेबाजी कर ली होती तो शायद भारतीय टीम टेस्ट मैच जीत जाती, जो अब तक की सबसे ऐतिहासिक जीत होती।

भारत को मैच के आखिरी दिन ऑस्ट्रेलिया के मिले 407 रन के लक्ष्य का पीछा करना था। पंत ने 118 गेंद पर 12 चौके और 3 छक्के की मदद से 97 रन की पारी खेली। भारत ने 103 रन के स्कोर पर तीसरा विकेट कप्तान अजिंक्य रहाणे के रूप में गंवाया था। पंत जब आउट होकर वापस लौटे तो भारत का स्कोर 250 रन था। 

गंभीर ने पुजारा की भी जमकर तारीफ की और धीमी बल्लेबाजी करने पर उनका बचाव किया। उन्होंने कहा, जब हम चेतेश्वर पुजारा के बारे में बात करते हैं तो आप जीतनी चाहे बातें कर सकते हैं। लेकिन विश्व क्रिकेट में ऐसे कम ही बल्लेबाज हैं जो वक्त बिता सकते हैं और सेशनभर बल्लेबाजी करने का दम रखते हैं। पुजारा ऐसे ही बल्लेबाजों में से एक हैं। लोग ऐसा सोचेंगे की मैच सिर्फ ड्रॉ ही हो पाया लेकिन ऐसा ड्रॉ शायद ऑस्ट्रेलिया में उतना ही बड़ा है जितनी कोई जीत होगी।

 

Ind-vs-End

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप