नई दिल्ली, प्रेट्र। बीते कुछ अर्से से क्रिकेट के मैदान पर भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच कड़ा मुकाबला देखा जा रहा है। इस मुकाबले में रोमांच और दर्शकों की रुचि बनी रहती है। साल 2001 के कोलकाता में खेले गए ऐतिहासिक टेस्ट मैच से ही दोनों टीमों को बीच रोमांचक मुकाबले देखने को मिलते हैं। अगर शुरुआत में सचिन तेंदुलकर, वीवीएस लक्ष्मण और राहुल द्रविड़ भारतीय बल्लेबाजी की कमान संभालते थे तो अब दौर विराट कोहली एंड कंपनी का है। ऑस्ट्रेलिया के सीमित ओवरों की टीम के कप्तान आरोन फिंच का मानना है कि जब भी दोनों टीमें आमने-सामने होती हैं उनके बीच कड़े मुकाबले की भावना नजर आती है फिर चाहे प्रारूप कोई भी क्यों न हो।

मंगलवार को उन्होंने कहा, भारत और ऑस्ट्रेलिया दो बहुत कामयाब टीमें हैं। ये दोनों ही देश क्रिकेट को लेकर बहुत जुनूनी हैं, तो ऐसे में वनडे और टेस्ट में दोनों टीमों के बीच मुकाबले की तुलना नहीं की जा सकती। उन्होंने कहा, टेस्ट क्रिकेट का परंपरागत रूप है। इसमें पांच दिन तक कड़ा मुकाबला होता है। हर दिन मानसिक जंग होती है वहीं वनडे क्रिकेट में बेशक अधिक स्किल की जरूरत होती है, लेकिन सिर्फ एक दिन के लिए। अगर मैदान में एक-दो खिलाड़ी अच्छा प्रदर्शन कर दें तो आप मैच जीत सकते हैं। इसका अर्थ यह नहीं कि यहां प्रतिस्पर्धा कम महत्वपूर्ण है या फिर इसे इसलिए हल्के में लिया जाता है कि यह टी-20 या वनडे है।

आपको बता दें कि भारत व ऑस्ट्रेलिया के बीच चार मैचों की टेस्ट सीरीज का आगाज इस साल के अंत में होना है। भारतीय टीम ने अपने पिछले दौरे पर विराट की कप्तानी में कंगारू टीम को पहली बार चार मैचों की टेस्ट सीरीज में 2-1 से हराया था और इतिहास रचा था। कंगारू टीम अब भारतीय टीम का बेसब्री से इंतजार कर रही है। टीम इंडिया के लिए ये दौरा आसान नहीं होने वाला है क्योंकि अब मेजबान टीम में डेविड वार्नर और स्टीव स्मिथ की वापसी हो चुकी है। 

Posted By: Sanjay Savern

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस