पार्ल (दक्षिण अफ्रीका), प्रेट्र। केएल राहुल की कप्तानी में भारतीय टीम जब बुधवार को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ पहला वनडे क्रिकेट मैच खेलने उतरेगी तो सात साल में पहली बार सिर्फ बल्लेबाज के तौर पर भारतीय टीम में खेल रहे विराट कोहली पर सभी की नजरें होंगी। कोहली बल्लेबाजी करें या सीमारेखा के पास क्षेत्ररक्षण, उनकी हर एक गतिविधि पर प्रशंसकों की नजरें होंगी। हालांकि, राहुल की कप्तानी को भी कसौटी पर कसा जाएगा। देखना यह भी होगा कि वह हमेशा की तरह मैदान पर जोश और आक्रामकता से भरे दिखते हैं या टेस्ट कप्तानी के साथ क्रिकेट के हर प्रारूप में कप्तानी छोड़ने के बाद मैदान पर उदासीन नजर आते हैं।

कोहली टी-20 के बाद वनडे कप्तानी नहीं छोड़ना चाहते थे और इस मसले पर उनकी बीसीसीआइ से ठन भी गई। उनके प्रशंसक और भारतीय क्रिकेट यही दुआ कर रहे होंगे कि बीसीसीआइ से अपने विवाद को भुलाकर वह अपने करियर की नई पारी का आगाज करें, जिसमें सिर्फ उनका बल्ला बोलता हो। दो साल बाद उनके बल्ले से शतक सोने पे सुहागा होगा। चोटिल रोहित शर्मा की जगह कप्तानी कर रहे राहुल सीरीज में कोहली से सलाह जरूर लेंगे। कोहली को बतौर बल्लेबाज ही अहम भूमिका नहीं निभानी है, बल्कि जैसा कि उप कप्तान जसप्रीत बुमराह ने कहा है कि वह हमेशा टीम के अगुवा रहेंगे। नए कप्तान और सहयोगी स्टाफ के साथ यह सीरीज जीतकर भारत 2023 विश्व कप की तैयारी शुरू करना चाहेगा। इसके साथ ही पिछले सप्ताह टेस्ट सीरीज में हार से मिले जख्मों पर मरहम भी लगाना है।

भारत ने आखिरी बार पूरी मजबूत टीम के साथ वनडे सीरीज मार्च में इंग्लैंड के खिलाफ खेली थी। इसके बाद दोयम दर्जे की टीम जुलाई में श्रीलंका गई थी। राहुल ने इंग्लैंड के खिलाफ मध्यक्रम में बल्लेबाजी की थी और अब यह देखना है कि क्या वह फिर शिखर धवन के साथ पारी का आगाज करते हैं। घरेलू सत्र में शानदार प्रदर्शन के बाद टीम में जगह बनाने वाले रुतुराज गायकवाड़ को पदार्पण के लिए अभी इंतजार करना होगा। धवन के लिए यह तीनों मैच काफी अहम होंगे, क्योंकि टी-20 टीम में अपनी जगह वह पहले ही खो चुके हैं। कोहली तीसरे नंबर पर उतरेंगे, जबकि चौथे नंबर के लिए सूर्यकुमार यादव और श्रेयस अय्यर के बीच में से चयन होगा। रिषभ पंत पांचवें नंबर पर बल्लेबाजी करेंगे और वेंकटेश अय्यर छठे नंबर पर उतरकर पदार्पण कर सकते हैं ।

स्पिन गेंदबाजी का जिम्मा युजवेंद्रा सिंह चहल और आर अश्विन पर होगा। बुमराह और भुवनेश्वर कुमार तेज आक्रमण की कमान संभालेंगे, जबकि तीसरे विकल्प के तौर पर दीपक चाहर, शार्दुल ठाकुर और प्रसिद्ध कृष्णा में से एक को उतारा जा सकता है। टेस्ट सीरीज में चोटिल हुए मुहम्मद सिराज भी फिट हैं। पिछले दौरे पर भारत ने दक्षिण अफ्रीका को वनडे सीरीज में 5-1 से हराया था। हालांकि टेस्ट सीरीज जीतकर दक्षिण अफ्रीका के हौसले बुलंद हैं। तेंबा बावुमा टेस्ट मैचों वाली फार्म जारी रखना चाहेंगे, जबकि टेस्ट को अलविदा कह चुके क्विंटन डिकाक वनडे में अपनी उपयोगिता साबित करना चाहेंगे। टेस्ट सीरीज में प्रभावित करने वाले तेज गेंदबाज मार्को जेनसेन एक बार फिर भारतीय बल्लेबाजों को परेशान कर सकते हैं ।

टीमें :

भारत : केएल राहुल (कप्तान), जसप्रीत बुमराह, शिखर धवन, रुतुराज गायकवाड़, विराट कोहली, सूर्यकुमार यादव, श्रेयस अय्यर, वेंकटेश अय्यर, रिषभ पंत, इशान किशन, युजवेंद्रा सिंह चहल, आर अश्विन, भुवनेश्वर कुमार, दीपक चाहर, प्रसिद्ध कृष्णा, शार्दुल ठाकुर, मुहम्मद सिराज, जयंत यादव, नवदीप सैनी।

दक्षिण अफ्रीका : तेंबा बावुमा (कप्तान), केशव महाराज, क्विंटन डिकाक, जुबैर हमजा, मार्को जेनसेन, जानेमन मलान, सिसांडा मगाला, एडेन मार्करैम, डेविड मिलर, लुंगी नगिदी, वेन परनेल, एंडिले फेलुक्वायो, ड्वेन प्रिटोरियस, कैगिसो रबादा, तबरेज शम्सी, रासी वेन डेर डुसेन, काइल वेरेन्ने।

Edited By: Sanjay Savern