नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। पूर्व भारतीय क्रिकेटर आकाश चोपड़ा ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ तीसरे और अंतिम वनडे से वेंकटेश अय्यर को बाहर करने पर नाखुशी जाहिर की। उन्होंने कहा कि युवा क्रिकेटर को टीम से बाहर करने समझ के परे है। खासकर फिटनेस के आधार पर। भारतीय कप्तान केएल राहुल ने टास के बाद टीम में चार बदलाव की जानकारी दी। रविचंद्रन अश्विन, शार्दुल ठाकुर, वेंकटेश अय्यर और भुवनेश्वर कुमार की जगह सूर्यकुमार यादव, जयंत यादव, दीपक चाहर और प्रसिद्ध कृष्ण शामिल को मौका मिला है।

शार्दुल, अश्विन और भुवनेश्वर को वर्कलोड कार्यभार और प्रदर्शन को देखते हुए टीम से बाहर किया गया, वहीं अय्यर को केवल दो मैचों के बाद टीम से बाहर करने का फैसला चौंकाने वाला था। उनको टीम में भविष्य में हार्दिक पांड्या की जगह  लेते हुए देखा जा रहा है। हालांकि, उन्हें अभी अपनी प्रतिभा दिखाने का पूरा अवसर नहीं मिला है।

चोपड़ा ने कहा कि अय्यर को बाहर करने का निर्णय समझ के परे है। 27 वर्षीय क्रिकेटर ने दो मैचों में केवल चार ओवर फेंके और उन्हें निचले क्रम में बल्लेबाजी का मौका मिला, जहां वह ज्यादा प्रभाव नहीं डाल सके। चोपड़ा ने स्टार स्पोर्ट्स पर कहा,  वेंकटेश अय्यर का अनफिट नहीं हो सकते। मैं वास्तव में इस तथ्य को पचा नहीं सकता। क्योंकि इसका कोई मतलब ही नहीं है। आपने उन्हें केवल दो बार खेलने को मौका दिया। उन्हें केवल एक बार गेंदबाजी दी और फिर आप उन्हें अगले मैच में ड्राप कर दिया। आप एक बार फिर केवल पांच गेंदबाजों के साथ जा रहे हैं।'

बता दें कि हार्दिक पांड्या बार-बार चोटिल होने के कारण टीम से अंदर बाहर हो रहे हैं। ऐसे में वेंकटेश अय्यर को एक आलराउंडर के रूप में तैयार किया जा रहा है, जो एक फिनिशर के रूप में भी काम कर सकते हैं। अय्यर का आइपीएल में प्रदर्शन शानदार रहा है। हालांकि, वह बतौर ओपनर खेले हैं। 

Edited By: Tanisk