नई दिल्ली, जेएनएन। भारतीय कप्तान विराट कोहली ने ओवल में अपना आखिरी टेस्ट मैच खेलने वाले दिग्गज इंग्लिश बल्लेबाज एलिस्टर कुक की सराहना करते हुए कहा कि वह खेल के महान दूत हैं, जिन्होंने कभी अपनी हद पार नहीं की। कुक ने भारत के खिलाफ अपने अंतिम टेस्ट में शतक जड़कर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कहा। कोहली ने कहा कि कुक हर किसी के लिए शानदार उदाहरण हैं कि टेस्ट क्रिकेट से इतना प्यार किया जाए और उनके अंदर देश के लिए खेलने की इतनी अधिक प्रतिबद्धता और जज्बा है। 

वह खेल के महान दूत हैं। निश्चित तौर पर उनके लिए मेरे अंदर काफी सम्मान है, क्योंकि वह ऐसे खिलाड़ी हैं, जिन्होंने कभी हद पार नहीं की। किसी को भी कभी कोई नकारात्मक शब्द नहीं कहा, सिर्फ अपने काम को किया और वह अपने काम को लेकर काफी सुनिश्चित थे। मैं उन्हें शुभकामनाएं देता हूं।

कोहली ने कहा कि कुक की प्रतिबद्धता उनकी 147 रन की अंतिम पारी में नजर आती है, जो उनका 33वां टेस्ट शतक है। कोहली ने कहा कि मैंने उनसे मैदान पर पूछा कि क्या 140 रन बनाने के बाद अब उनके दिमाग में संन्यास को लेकर कोई और विचार आ रहा है तो उन्होंने कहा कि बिलकुल भी नहीं। किसी भी अन्य चीज से अधिक वह राहत महसूस कर रहे थे। आप देख सकते हैं कि वह अपनी बल्लेबाजी का नए सिरे से लुत्फ उठा रहे थे

वहीं सीरीज में हार के बावजूद कोहली अपनी टीम के प्रदर्शन से संतुष्ट दिखे। कोहली ने कहा कि इंग्लैंड के के हाथों पांच मैचों की टेस्ट सीरीज 4-1 से हारने का मतलब यह नहीं है कि उनकी टीम ने सीरीज में बुरे खेल का प्रदर्शन किया। मंगलवार को आखिरी टेस्ट मैच में हारने के बाद कोहली ने कहा, ‘मुझे लगता है कि 4-1 का स्कोरलाइन ठीक है क्योंकि इंग्लैंड ने हमसे बेहतर खेल का प्रदर्शन किया लेकिन लॉर्ड्स में हुए टेस्ट मैच को छोड़कर बाकी में हमने बुरा प्रदर्शन नहीं किया।’

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

अन्य खेलों की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Lakshya Sharma