(मोहिंदर अमरनाथ का कॉलम)

दिल्ली में रविवार को बांग्लादेश के हाथों मिली हार से कोई आश्चर्य नहीं होना चाहिए। टी-20 मौके का खेल है और गलती करने पर उलटफेर संभव हो जाता है। बांग्लादेश एक अच्छी टीम है और यह कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि वे अब सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन के साथ प्रतिस्पर्धा करते हैं। मैं विशेष रूप से प्रभावित हुआ जो पिछले कुछ दिनों में मेहमान टीम के साथ हुआ। पहले यह बात हो रही थी कि मेहमान टीम दौरे पर नहीं आएगी, फिर अनुभवी खिलाड़ी तमीम इकबाल दौरे से हट गए और फिर टीम के महत्वपूर्ण ऑलराउंडर शाकिब अल हसन पर प्रतिबंध लग गया। टीम के साथ कई चीजें हुई। हालांकि, टीम इससे बाहर आई और भारत को हराने के लिए अच्छा खेली।

भारतीय बल्लेबाज विराट कोहली जब आराम लेते हैं तब उनके द्वारा छोड़ा गया अंतर बड़ा हो जाता है। जिस तरह से वह अपने खेल को अगले स्तर पर ले गए हैं, वह प्रेरणादायक है और शायद भारत रविवार के खेल में योजना बनाने की अपनी क्षमता से चूक गया। एक बार जब बांग्लादेश के गेंदबाज भारत को 150 से कम पर रोक देते हैं तो वे फिर मौके को भुना लेते हैं। भारतीयों के लिए यह निराशाजनक शुरुआत थी, लेकिन मुझे यकीन है कि मेजबान टीम राजकोट में होने वाले दूसरे टी-20 मैच में दमदार वापसी करेंगे।

मुझे उम्मीद है कि टीम बहुत अधिक प्रयोग करने से बचेगी और पहले मैच वाले अंतिम एकादश के साथ खेलने पर ध्यान लगाएगी। मैं उम्मीद करता हूं कि रोहित शर्मा राजकोट में अच्छा प्रदर्शन करेंगे और अन्य बल्लेबाज भी कुछ लय पाएंगे। भारतीयों को बांग्लादेश के खिलाफ अपने ओवरऑल रिकॉर्ड पर गर्व होगा। दूसरी ओर, मेहमान टीम इस प्रदर्शन से खुश होगी। वे दो वरिष्ठ खिलाडि़यों के बिना खेल रही है। टीम को टेस्ट मैचों में शाकिब के अनुभव की कमी खेलेगी जिसमें विशेष रूप से दिन-रात्रि टेस्ट मैच शामिल है। हालांकि अभी मेहमान टीम को भारत के खिलाफ टी-20 में अपनी पहली जीत का आनंद लेना चाहिए।

Posted By: Sanjay Savern

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप