नई दिल्ली, जेएनएन। विराट कोहली की अगुआई में टीम इंडिया को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वनडे मैच में पहली बारी दस विकेट से हार मिली। विराट भारत के पांचवें ऐसे कप्तान बने जिनकी अगुआई में टीम इंडिया को वनडे में दस विकेट से हार मिली। इस पूरे मैच में कंगारू टीम हर डिपार्टमेंट में भारतीय टीम पर हावी रही। पहले उन्होंने धारदार गेंदबाजी करते हुए भारतीय टीम को 255 रन पर रोक दिया और उसके बाद टीम के दोनों ओपनर बल्लेबाजों डेविड वार्नर और आरोन फिंच ने रिकॉर्ड साझेदारी करते हुए अपनी टीम को दस विकेट से जीत दिला दी। 

इस पूरे मैच के दौरान भारतीय गेंदबाज विकेट लेने के लिए परेशान दिखे, लेकिन उन्हें सफलता नहीं मिली वहीं ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों ने आसानी से मैच जीत लिया। इस मैच में कहीं से भी ये नहीं दिखा कि टीम इंडिया ने मेहमान टीम को टक्कर दी हो। भारत के तीनों तेज गेंदबाजों ने सात से ज्यादा की औसत से रन दिए जबकि दोनों स्पिनरों ने पांच की ज्यादा की औसत से रन लुटाई। इस बड़ी जीत के लिए अब तीन मैचों की सीरीज में मेहमान टीम 1-0 से आगे हो गई है। अब दोनों देशों के बीच अगला मैच 17 जनवरी को खेला जाएगा। 

इस मैच में मिली करारी हार के बाद भारतीय कप्तान विराट कोहली ने कहा कि हम इस मैच में तीनों डिपार्टमेंट में पूरी तरह से फेल रहे। ये एक मजबूत टीम है और अगर आप इनके खिलाफ अच्छा नहीं खेलते हो तो ये आपको इसी तरह से चोट पहुंचा सकते हैं। हम उनके खिलाफ ज्यादा रन बनाने में कामयाब नहीं हो सके। उन्होंने कहा कि खेल के कुछ फेज तक हम बहुत ही रिस्पेक्टफुल रहे जिसका हमें खमियाजा भुगतना पड़ा। हमें ऑस्ट्रेलिया जैसी टीम के खिलाफ ऐसा नहीं कर सकते। ये हमारी टीम के लिए वापसी का अच्छा मौका था, लेकिन मेहमान टीम को दाद देनी पड़ेगी कि उन्होंने शानदार क्रिकेट खेली। 

विराट ने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट हमेशा अनमोल होता है। किसी भी प्रारूप में आपको मिलने वाला अनुभव आपके लिए अच्छा होता है जब आप अन्य प्रारूप खेलते हैं। आपको मिलने वाला खेल समय महत्वपूर्ण है। यदि आप किसी भी प्रारूप में प्रदर्शन करते हैं, तो यह आपको अन्य प्रारूपों के लिए आत्मविश्वास देता है। आज उन दिनों में से एक था जब हमें खेल में शामिल होने की अनुमति नहीं थी।

नंबर चार पर बल्लेबाजी के बारे में विराट ने कहा कि केएल राहुल जिस तरह की बल्लेबाजी कर रहे हैं ऐसे में हमने उन्हें टीम में फिट करने की कोशिश की। यहां पर मेरे पास नंबर चार पर बल्लेबाजी करने के अलावा कोई चारा नहीं था। ये वक्त अन्य खिलाड़ियों को मौका देने का है। भारतीय क्रिकेट फैंस को इस एक खेल से घबराने की जरूरत नहीं है। मुझे लगता है कि मुझे थोड़ा प्रयोग करने की अनुमति है।

Posted By: Sanjay Savern

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस