कराची। पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद कई भारतीय पूर्व क्रिकेटर्स ने विश्व कप में पाकिस्तान के खिलाफ मैच नहीं खेलने की सलाह दी है। इनमें भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली भी हैं। गांगुली ने भी कहा था कि भारत को विश्व कप में पाकिस्तान के खिलाफ नहीं खेलना चाहिए साथ ही उनके साथ सभी क्षेत्रों में भी संबंध खत्म कर दिए जाने चाहिए। गांंगुली के इस बयान पर पाकिस्तान क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान जावेद मियांदाद ने अपनी टिप्पणी की है। 

मियांदाद ने कहा कि शायद गांगुली चुनाव लड़ना चाहते हैं जिसकी वजह से ये बयान दे रहे हैं। आपको बता दें कि गांगुली ने अपने बयान में कहा था कि पुलवामा हमले के बाद पाकिस्तान के साथ द्विपक्षीय सीरीज खेलने का सवाल ही नहीं उठता बल्कि भारत को ना सिर्फ क्रिकेट बल्कि हर क्षेत्र में पाकिस्तान के साथ सभी संबंध तुरंत खत्म करने चाहिए। हमें पाकिस्तान के साथ हॉकी, फुटबॉल, क्रिकेट किसी भी तरह के खेलों में हिस्सा नहीं लेना चाहिए।

मियांदाद ने गांगुली की बात को एक प्रचार स्टंट करार दिया और कहा कि उनके बयानों से ये साफ नजर आता है कि उनका झुकाव राजनीति की तरफ है और मुझे लगता है कि गांगुली आने वाले दिनों में चुनाव लड़ना चाहतें हैं या मुख्यमंत्री बनना चाहते हैं। वो इस तरह का बयान अपने देश के लोगों का ध्यान अपनी तरफ खींचने के लिए दे रहे हैं। 

भारत सरकार पर निशाना साधते हुए मियांदाद ने कहा कि हमें भारत की कायरतापूर्ण हरकतों से परेशान नहीं होना चाहिए। हमें खुद को बेहतर बनाने पर ध्यान देना चाहिए। पाकिस्तान ने हमेशा भारत के मुद्दों का शांतिपूर्ण समाधान करने की पेशकश की है लेकिन भारतीयों ने हमेशा नकारात्मक जवाब दिया है।

बीसीसीआइ ने आइसीसी को पत्र लिखकर आतंक को शह देने वाले देशों के साथ क्रिकेट संबंधों को खत्म करने के बारे में पूछा है इसे लेकर मियांदाद ने कहा कि मुझे नहीं लगता कि आइसीसी बीसीसीआइ की इस मुर्खतापूर्ण और बचकाना हरकत को स्वीकार करेगा। आइसीसी का ये संविधान है कि वो टीम इस टूर्नामेंट के लिए क्वालीफाई कर लेगा वो इसमें हिस्सा लेगा। भारत और पाकिस्तान के बीच 16 जून को इंग्लैंड में विश्व कप के दौरान मैच खेला जाना है। 

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Sanjay Savern

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप