लंदन, जेएनएन। नॉटिंघम टेस्ट में इंग्लैंड की पहली पारी 161 रन पर ढेर हो गई। इसकी सबसे बड़ी वजह रही भारतीय ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या। पांड्या ने इंग्लैंड के बल्लेबाज़ों को छकाते हुए पांच विकेट हासिल किए। ये उनके टेस्ट करियर का पहला फाइव विकेट हॉल भी रहा। खास बात ये है कि पांड्या ने पहली बार अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पांच विकेट हासिल किए वो भी इंग्लैंड के खिलाफ उनके ही घर में। टेस्ट क्रिकेट में पांच विकेट लेने के बाद पूर्व भारतीय कप्ताव कपिल देव से अपनी तुलना को लेकर कहा कि वो उनसे अपनी तुलना नहीं करना चाहते।

'किसी से नहीं करना चाहता तुलना'

इंग्लैंड के खिलाफ हार्दिक ने दूसरे दिन 28 रन देकर मेजबान टीम की पहली पारी में पांच विकेट लिए थे। ऐसे में दूसरे दिन अपने प्रदर्शन के बाद पांड्या ने कहा कि वह अन्य खिलाड़ियों के साथ अपनी तुलना से थक गए हैं। हार्दिक पांड्या का कहना है कि वह दिग्गजों में शुमार कपिल देव से अपनी तुलना नहीं करना चाहते। हार्दिक चाहते हैं कि दुनिया उन्हें उनके नाम से ही जाने और वह कपिल नहीं बनना चाहते।

हार्दिक ने कहा, 'सबसे बड़ी समस्या यह है कि आप एक खिलाड़ी की तुलना दूसरे से करते हो और अचानक अगर कुछ गलत हो जाता है, तो लोग कहते हैं कि अरे यह तो कपिल की तरह नहीं है। मैं कभी भी कपिल नहीं बनना चाहता। मुझे हार्दिक पांड्या ही रहने दें। मैं अपनी पहचान के साथ ही खुश हूं।'

भारतीय टीम के हरफनमौला खिलाड़ी ने कहा, 'मैंने अभी तक अपने करियर में 40 वनडे, 10 टेस्ट मैच खेले हैं और मैं अब भी हार्दिक ही हूं, कपिल नहीं हूं। उस युग में कई दिग्गज निकले। ऐसे में मुझे हार्दिक ही रहने दें। किसी और के साथ मेरी तुलना करना बंद करें। अगर आप मेरी तुलना बंद कर देंगे, तो मुझे खुशी होगी।'

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

अन्य खेलों की खबरों के लिए यहां क्लिक करें  

Posted By: Pradeep Sehgal