नई दिल्ली, जेएनएन। भारत,श्रीलंका और बांग्लादेश के बीच खेली जाने वाले त्रिकोणीय टी-20 सीरीज के लिए भारतीय टीम में तमिलनाडु के हरफनमौला खिलाड़ी विजय शंकर को शामिल किया गया है। इस सीरी़ज़ में हार्दिक पांड्या को आराम दिया गया है और उनकी जगह पर चयनकर्ताओं ने विजय शंकर को मौका दिया है। ये पहला मौका है जब विजय शंकर को भारत की टी-20 टीम के लिए चुना गया है। इससे पहले भी उनका एक बार सेलेक्शन हुआ था, लेकिन तब उन्हें टेस्ट टीम में मौका मिला था। उन्हें पिछले साल भुवनेश्वर कुमार के रिप्लेसमेंट के तौर पर टीम इंडिया में जगह मिली थी. जब भुवी अपनी शादी की वजह से श्रीलंका के खिलाफ टेस्ट मैच नहीं खेल सके थे।   

दमदार प्रदर्शन है विजय शंकर की चयन की वजह 

शंकर को सैयद मुश्ताक अली टी 20 टूर्नामेंट के साथ ही हाल ही में संपन्न विजय हजारे ट्रॉफी में दमदार प्रदर्शन का इनाम मिला है। सैयद मुश्ताक अली टी 20 टूर्नामेंट में उन्होंने एक अर्धशतक के साथ 121.60 की स्ट्राइक रेट से 152 रन बनाए थे, जबकि विजय हजारे ट्रॉफी में शंकर ने चार पारियों में एक शतक के साथ-साथ एक अर्धशतक भी ठोका था। इन चार पारियों में उन्होंने 100, 5, 11 और 84 रन बनाए थे। साथ ही उन्होंने दो विकेट भी हासिल किए थे।

पांड्या से तुलना पर नहीं बढ़ता दबाव

टी-20 सीरीज़ के लिए चुने जाने के बाद विजय शंकर का कहना है कि वो हार्दिक पांड्या की जगह खेलने का दवाब महसूस नहीं कर रहे हैं। शंकर जानते हैं कि उन्हें पांड्या की जगह टीम में शामिल किया गया है, क्योंकि कप्तान विराट कोहली इस बात को स्पष्ट कर चुके हैं कि टीम प्रबंधन 27 वर्षीय शंकर को पांड्या के बैक-अप के रूप में आगे बढ़ाना चाहता है। शंकर ने कहा, मैं इसे ज्यादा महत्व नहीं देता। मैदान पर कदम रखते ही दवाब बना रहता है। आपको संयम के साथ वैसा ही खेलने की जरुरत होती है जैसा आप हर जगह खेलते हैं।

इंडियन प्रीमियर लीग (आइपीएल) की निलामी में दिल्ली डेयरडेविल्स द्वारा 3.2 करोड़ रुपये में खरीदे जाने वाले शंकर का मानना है कि भारतीय टीम का हर खिलाड़ी विशेष है और उन्हें हर खिलाड़ी से बहुत कुछ सीखने की जरुरत है। शंकर ने कहा, हर खिलाड़ी के पास टीम को देने के लिए कुछ विशेष है। एक क्रिकेट खिलाड़ी के रूप में हम हर किसी से सीख सकते हैं और इसका मतलब किसी से तुलना करना नहीं है।

शंकर ने घरेलू क्रिकेट में भी शानदार प्रदर्शन किया है। उन्होंने कहा, मैं घरेलू क्रिकेट को बहुत महत्वपूर्ण स्तर मानता हूं क्योंकि जब भी मैं अच्छा करता हूं तब मुझे अगले स्तर पर जाने का भरोसा मिलता है। इसलिए, घरेलू क्रिकेट में अच्छा प्रदर्शन करना मेरे लिए महत्वपूर्ण है।

हरफनमौला खिलाड़ी शंकर अपने कोच एस. बालाजी के साथ पिछले कुछ माह से अभ्यास करे रहे हैं। उन्होंने कहा, मैंने अपने कोच के साथ अभ्यास किया और कुछ चीजों पर काम किया। मैं नहीं समझता कि मुझे कुछ अलग करने की जरूरत है। मेरे लिए यह जरूरी है कि जो मैं कर रहा हूं उसे जारी रखूं।

विश्व कप के लिए टीम में शामिल होने के प्रश्न पर शंकर ने कहा, मैं इस बारे में ज्यादा सोचकर अपने उपर ज्यादा दबाव नहीं बना रहा। मैं विश्व कप और किसी अन्य चीज के बारे में अभी नहीं सोच रहा। शंकर ने सीरीज से पहले मानसिक रूप से तैयारी करने के बारे में कहा, मानसिक रूप से मैं खेल के बारे में बहुत सोचता हूं। मैं हर मैच देखता हूं और इससे मुझे विभिन्न परिस्थितियों के अनुकूल रहने में मदद मिलती है। शंकर ने कहा, मानसिक रूप से मुझे चुनौती के लिए तैयार रहना चाहिए।

6 मार्च को पहला मैच

त्रिकोणीय टी-20 सीरीज में भारत का पहला मुकाबला छह मार्च को श्रीलंका से होगा। ये मैच श्रीलंका के प्रेमदासा स्टेडियम में भारत और श्रीलंका के बीच खेला जाएगा। इस ट्राईसीरीज़ में भारतीय टीम की कमान रोहित शर्मा संभालेंगे क्योंकि इस सीरीज़ के लिए विराट कोहली के साथ-साथ, महेंद्र सिंह धौनी, हार्दिक पांड्या, भुवनेश्वर कुमार, जसप्रीत बुमराह और कुलदीप यादव को आराम दिया गया है।

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

अन्य खेलों की खबरों के लिए यहां क्लिक करें    

Edited By: Pradeep Sehgal