नई दिल्ली, एजेंसी। इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल की कमेटी ने सोमवार को कोरोना वासयरस संक्रमण के खतरे के भांपते हुए भविष्य में गेंद चमकाने के लिए लार के प्रयोग पर रोक लगाने की सिफारिश की है। चेयरमैन अनिल कुंबले की अध्यक्षता वाले पैनल ने आईसीसी को खिलाड़ियों के थूक और लार से गेंद चमकाने पर प्रतिबंध लगाने सिफारिश की है।

भारतीय टीम के पूर्व बल्लेबाज गौतम गंभीर को लगता है कि खिलाड़ी जब कोविड-19 के बाद मैदान पर लौटेंगे तो उनके दिल में डर होगा। कोविड-19 के कारण सभी तरह की क्रिकेट गतिविधियां मार्च के मध्य से बंद हैं।

गंभीर ने कहा "यह वैसे हर इंसान पर निर्भर करता है, लेकिन हां जब वो लोग खेलने जाएंगे तो थोड़ा बहुत डर तो होगा ही। हो सकता है कि कुछ समय बाद खिलाड़ी मैदान पर जाने के बाद मैच के माहौल में इस भूल जाएं और मैच में रम जाएं। ऐसे में क्रिकेट में संतुलन बनाने के लिए लार के विकल्प को ढूंढना जरूरी होगा।"

कोविड-19 के बाद क्रिकेट की वापसी के बाद गेंद को चमकाने के लिए लार और पसीने के इस्तेमाल पर रोक लगाने की बातें चल रही हैं।

सोमवार को आईसीसी की क्रिकेट कमेटी के चेयरमैन अनिल कुंबले ने कॉन्फ्रेंस के जरिए इस बैठक में भाग लिया और गेंद पर लार के प्रयोग पर बैन लगाने की सहमति बनी। इसकी सिफारिश आईसीसी को भेजी गई है। अब क्रिकेट कमेटी की सिफारिश को ICC Chief Executives’ Committee से सामने रखा जाएगा। जुलाई में इसके पास होने की उम्मीद की जा रही है।

कोरोना वायरस संक्रमण की वजह से अब तक पूरी दुनिया में 4,924,383 लोग संक्रमित हो चुके हैं। अब तक 320,816 लोग इस महामारी में अपनी जान गंवा चुके हैं। भारत में भी कोरोना से संक्रमितों की संख्या एक लाख के पार पहुंच चुकी है। 3,169 लोग भारत में इस घातक वायरस के शिकार हो चुके हैं। 

 

Posted By: Viplove Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस