नई दिल्ली, प्रेट्र। कोविड 19 महामारी के खत्म होने के इंतजार सबको है। कहा ये जा रहा है कि इस महामारी के खत्म होने के बाद जब क्रिकेट शुरू किया जाएगा तब इसे लेकर तमाम तरह के उपाय अपनाए जाएंगे जिससे कि खिलाड़ी सुरक्षित रह सकें। पर टीम इंडिया के पूर्व ओपनर बल्लेबाज गौतम गंभीर का ये मानना है कि इस महामारी के बाद भी क्रिकेट खेलने के तरीकों में ज्यादा बदलाव नहीं होंगे। उन्होंने कहा कि गेंद पर खिलाड़ी लार का इस्तेमाल करते थे और इस पर बैन लग गया है। मुझे नहीं लगता कि इसके अलावा कोई कोई बदलाव होनें की संभावना है। ल

आपको बता दें कि इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल यानी आइसीसी अब इस बात पर विचार कर रही है कि गेंद को लार की जगह किसी अन्य चीज के इस्तेमाल से चमकाया जा सके। गौतम गंभीर ने स्टार स्पोर्ट्स के एक कार्यक्रम क्रिकेट कनेक्टेड में कहा कि मुझे नहीं लगता कि जब क्रिकेट शुरू होगा तब ज्यादा बदलाव होंगे, आपको शायद गेंद पर लार का इस्तेमाल का दूसरा कोई विकल्प मिल सकता है पर ये नहीं लगता कि ज्यादा नियम या फिर दिशानिर्देश को बदलने की कोशिश की जाएगी। 

गौतम गंभीर ने साफ तौर पर कहा कि प्लेयर्स के अलावा अन्य लोगों को भी इस वायरस के साथ जीने की आदत डालनी होगी। शायद सभी को इस बात अपने मन में बिठाना होगा या हमें इस बात का आदि होना होगा कि एक वायरस है जो हमेशा रहेगा। खिलाड़ी इससे संक्रमित हो सकते हैं, लेकिन आपको इसके साथ ही रहना होगा। उन्होंने कहा कि क्रिकेट में कुछ हद तक सामाजिक दूरी की बात तो संभव भी है, लेकिन दूसरे खेलों में ऐसा करना काफी मुश्किल होगा। 

उन्होंने कहा कि किसी भी खेल में अन्य नियमों के साथ सामाजिक दूरी बरकरार रखना आसान काम नहीं होगा। आप क्रिकेट में तो ऐसा कर भी लेंगे, लेकिन हॉकी, फुटबॉल या फिर अन्य खेलों में ये किस तरह से कर पाएंगे। मुझे लगता है कि रमें कोरोना वायरस के साथ ही रहना होगा और हम इसे जितनी जल्दी स्वीकार कर लें ये उतना ही अच्छा होगा। 

Posted By: Sanjay Savern

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस