नई दिल्ली, जेएनएन। बॉल टेंपरिंग के कारण एक साल का प्रतिबंध झेल रहे ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान स्टीव स्मिथ और तूफानी ओपनर डेविड वॉर्नर अभी ऑस्ट्रेलिया टीम से खेलते नहीं दिखाई देंगे। ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट बोर्ड ने साफ कर दिया है कि स्मिथ और वॉर्नर के प्रतिबंध में कोई नरमी नहीं बरती जाएगी। इसका मतलब है कि इन दोनों के फैंस को उनकी वापसी का और इंतजार करना पड़ेगा। 

 ऑस्ट्रेलिया बोर्ड के हवाले से कहा गया कि क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया का कानून एसा करने ही कतई इजाजत नहीं देता है। अब दोनों खिलाड़ियों ने अपना जुर्म कबूल लिया है तो बैन में नरमी की बात ही नहीं होनी चाहिए। मीडिया में जो अफवाहे चल रही है कि स्मिथ और वॉर्नर के प्रतिबंध में कमी की जा सकती है वो सरासर गलत और झूठी है।

इससे पहले मीडिया में ये खबर आइ थी कि 2019 वर्ल्डकप को देखते हुए स्मिथ और वॉर्नर को ऑस्ट्रेलिया के घरेलू टूर्नामेंट शेफील्ड शील्ड में खेलने दिया जा सकता है। इन दोनों क्रिकेटर पर क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने 1 साल का बैन लगाया है जो मार्च 2019 में खत्म होगा।

वहीं दूसरी तरफ बॉल टेंपरिंग कांड के तीसरे आरोपी कैमरन बैनक्रॉफ्ट शेफील्ड में खेल सकते हैं क्योंकि उनका प्रतिबंध 9 महीनों का है जो दिसंबर में खत्म हो जाएगा। इस समय डेविड वॉर्नर और स्टीव स्मिथ ग्लोबल कनाडा लीग में खेल रहे है. अब तक इस लीग में स्मिथ ने तो अच्छा प्रदर्शन किया है लेकिन डेविड वॉर्नर का बल्ला पूरी तरह से शांत रहा है।

डेवि़ड वॉर्नर और पूर्व ऑस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीव स्मिथ पर बॉल टेंपरिंग का कारण प्रतिबंध लगा हुआ है। मार्च 2018 में साउथ अफ्रीका में खेली गई टेस्ट सीरीज के तीसरे टेस्ट मैच में बैनक्रॉफ्ट बॉल टेंपरिंग करते हुए पाए गए थे। बाद में पता चला कि डेविड वॉर्नर और स्टीव स्मिथ भी इस प्लान में शामिल थी। स्मिथ ने तो खुद प्रेस कॉन्प्रेस में अपनी गलती मानी थी। इसके बाद ऑस्ट्रेलिया बोर्ड ने तीनों पर प्रतिबंध लगा दिया।

फीफा की खबरों के लिए यहां क्लिक करें 

फीफा के शेड्यूल के लिए यहां क्लिक करें

 

Posted By: Lakshya Sharma