नई दिल्ली, जेएनएन। कैरिबियन प्रीमियर लीग 2020 के शुरुआत से ठीक पहले जमैका थालावास ने टीम के स्टार खिलाड़ी क्रिस गेल को इस साल के लिए रिटेन नहीं किया और टूर्नामेंट से पहले बाहर का रास्ता दिखा दिया था। जमैका फ्रेंचाइजी के इस कदम से क्रिस गेल भड़क गए थे और कुछ दिन पहले उन्होंने टीम के सहायक कोच रामनरेश सरवन को जमकर खरी-खोटी सुनाई थी। गेल ने कहा था कि उनके टीम से बाहर किए जाने में सरवन का हाथ है। अब जमैका टीम की तरफ से सफाई दी गई है। 

जमैका थालावास की तरफ से कहा गया है कि क्रिस गेल को सीपीएल 2020 के लिए टीम मे रिटेन नहीं करने का फैसला पूरी तरह से क्रिकेट और बिजनेस पर आधारित था और इस फैसले में रामनरेश सरवन का कोई हाथ नहीं था। थालावास की तरफ से ये बयान तब जारी की गई जब गेल ने रामनरेश सरवन को सांप, कोरोना वायरस से भी ज्यादा बदतर और पीठ में छुरा घोंपने वाला इंसान कहा था। गेल ने इसके अलावा टीम के चीफ एक्जक्यूटिव ऑफिसर जेफ मिलर और मालिक क्रिस प्रसौद पर उनसे साथ खेल खेलने का आरोप लगाया था। गेल ने कहा था कि एक साजिश के तहत उन्हें टीम से बाहर किया गया। 

जमैका की तरफ से कहा गया कि टीम के मालिक और मैनेजमेंट इस बात से काफी दुखी हैं कि क्रिस गेल ने टीम से बाहर किए जाने पर इस तरह की बातें की। गेल को टीम से बाहर किए जाने के पीछे काफी वजहें थीं। ये पूरी तरह से मैनेजमेंट का फैसला था इसमें सरवन का कोई हाथ नहीं था। थालावास का सीपीएल में साल 2019 में काफी खराब प्रदर्शन रहा था और टीम अंतिम पोजीशन पर रही थी। इसके बाद सीपीएल 2020 में अच्छे प्रदर्शन की वजह से कुछ कड़े फैसले किए गए। गेल ने इस सीजन में वापसी करने के बाद एक शतक जरूर लगाया, लेकिन उन्होंने लीग खत्म होने तक 10 पारियों में सिर्फ 243 रन बनाए। 

हालांकि सिर्फ क्रिस गेल ही नहीं आंद्रे रसेल ने भी जमैका फ्रेंचाइजी की जमकर बुराई की थी और कहा था मैंने जिस टीम के साथ अब तक खेला है जमैका उन सबमें सबसे बुरी टीम है। इस टीम में मैं एक फर्स्ट क्लास खिलाड़ी जैसा महसूस कर रहा था जैसे कि मैंने पिछले ही मैच में डेब्यू किया हो। 

Posted By: Sanjay Savern

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस